Search
Close this search box.

शीर्ष न्यायालय का निर्णय: केजरीवाल की याचिका पर जल्द सुनवाई से इनकार {28-05-2024}

सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल की जमानत अवधि बढ़ाने की मांग पर तत्काल सुनवाई से इनकार किया

सुप्रीम कोर्ट में केजरीवाल ने याचिका दायर की है, जिसमें उनकी जमानत अवधि को सात दिन और बढ़ाने की मांग की गई है। केजरीवाल ने यह अपील स्वास्थ्य की वजह से की है।सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली शराब नीति घोटाले में जमानत पर बाहर चल रहे सीएम अरविंद केजरीवाल की जमानत अवधि बढ़वाने की याचिका पर जल्द सुनवाई से इनकार कर दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल की जमानत अवधि बढ़ाने की मांग पर तत्काल सुनवाई से इनकार किया

सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल के वकील अभिषेक मनु सिंघवी से पूछा कि जस्टिस दत्ता की पीठ पिछले हफ्ते क्यों नहीं बैठी?दिल्ली के मुख्यमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट में स्वास्थ्य कारणों से अपनी जमानत अवधि को सात दिन बढ़ाने की मांग की है। याचिका पर केजरीवाल के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने जल्द सुनवाई की मांग की, लेकिन कोर्ट ने इसे ठुकरा दिया।

कोर्ट ने ये टिप्पणी की

केजरीवाल ने उच्चतम न्यायालय से अंतरिम जमानत की अवधि को सात दिन तक बढ़ाने की मांग की है क्योंकि उनका वजन अचानक छह से सात किलोग्राम कम हो गया है। केजरीवाल की अंतरिम याचिका को न्यायमूर्ति जे के माहेश्वरी और न्यायमूर्ति के वी विश्वनाथन की अवकाश पीठ ने स्वयं सूचीबद्ध करने से इनकार कर दिया और मुख्यमंत्री की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक सिंघवी से अनुरोध किया कि याचिका को तत्काल सूचीबद्ध किया जाए।

मुख्यमंत्री को अंतरिम जमानत देने वाली पीठ में शामिल न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता की अवकाश पीठ ने केजरीवाल की अंतरिम याचिका को स्वयं सूचीबद्ध करने से इनकार कर दिया. न्यायमूर्ति जे के माहेश्वरी और न्यायमूर्ति के वी विश्वनाथन की अवकाश पीठ ने पूछा कि याचिका को तत्काल सूचीबद्ध करने के लिए पिछले सप्ताह क्यों नहीं बताया गया? मुख्यमंत्री को अंतरिम जमानत देने वाली पीठ को न्यायमूर्ति संजीव खन्ना ने नेतृत्व किया था।

पीठ ने पूछा, “जब न्यायमूर्ति दत्ता पिछले सप्ताह अवकाश पीठ में बैठे थे, आपने तब इसका उल्लेख क्यों नहीं किया?” यह औचित्य का प्रश्न उठाता है, इसलिए माननीय सीजेआई को निर्णय लेने दें…। हम इसे सीजेआई को प्रेषित करेंगे।जवाब में सिंघवी ने कहा कि चिकित्सकीय परामर्श पिछले सप्ताह प्राप्त हुआ था, इसलिए इसका उल्लेख पिछले सप्ताह न्यायमूर्ति दत्ता के अवकाश पीठ में नहीं किया जा सका। उनका कहना था, “अगर इसे डिजिटल माध्यम से भी उस पीठ (न्यायमूर्ति खन्ना और न्यायमूर्ति दत्ता) के समक्ष सूचीबद्ध किया जाता है तो भी मुझे कोई आपत्ति नहीं है।’

21 मार्च को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव प्रचार के लिए जमानत दी थी, दिल्ली शराब नीति घोटाले में गिरफ्तार कर लिया गया था। दिल्ली हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी के खिलाफ केजरीवाल को राहत नहीं दी। केजरीवाल ने इसके बाद सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। 10 मई को सर्वोच्च न्यायालय ने केजरीवाल को 1 जून तक अंतरिम जमानत देने का आदेश दिया। कोर्ट ने केजरीवाल को लोकसभा चुनाव प्रचार करने के लिए जमानत देते हुए कुछ शर्तें भी लगाईं और कहा कि उन्हें 2 जून को जेल में वापस आना होगा।

हालाँकि, केजरीवाल ने अब सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर जमानत की अवधि को सात दिन और बढ़ाने की मांग की है।याचिका में, केजरीवाल ने कहा कि पीईटी और सीटी स्कैन सहित अन्य स्वास्थ्य जांच करानी चाहिए। विपणन केजरीवाल को अंतरिम जमानत देते हुए जस्टिस संजीव खन्ना और दीपांकर दत्ता की पीठ ने कहा कि निर्वाचित मुख्यमंत्री समाज के लिए खतरा नहीं हैं। कोर्ट ने भी कहा कि ईडी पिछले दो वर्षों से दिल्ली में शराब नीति घोटाले की जांच कर रही है, लेकिन केजरीवाल को सिर्फ आम चुनाव घोषित होने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। ऐसे में दिल्ली के मुख्यमंत्री को चुनाव प्रचार के लिए जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया गया।

यह भी पढ़े:-

KKR vs. SRH खेल 11: कोलकाता और हैदराबाद चार बार प्लेऑफ में आमने-सामने आ चुके हैं
11, KKR vs. SRH खेल 2024 IPL समापन: कोलकाता की टीम यह चौथा फाइनल खेल रही है, जबकि सनराइजर्स यह तीसरा फाइनल खेल रहे हैं। KKR दो बार (2012, 2014) पुरस्कार जीता है। वहीं, SRHA ने 2016 में आईपीएल जीता था।पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer