Search
Close this search box.

MP समाचार: 1990 में शायर मंजर भोपाली ने लिखा था, इस गीत के बोल क्या हैं? {17-05-2024}

 1990 में शायर मंजर भोपाली ने लिखा था, इस गीत के बोल क्या हैं?
यह कहते हुए मंजर भोपाली कि यह देश राम का है और यहां कई चिश्ती आए हैं, साथ ही गुरु नानकजी और गौतम बुद्ध ने भी मुहब्बत का पैगाम दिया है। लेकिन आज राजनीतिक भाषा कुछ बदली हुई लगती है। सियासत बहुत युवा हो गई है।

 1990 में शायर मंजर भोपाली ने लिखा था, इस गीत के बोल क्या हैं?

1990 में लिखा गया एक गीत अब बरसों बाद चर्चा में आया है। हाल ही में चुनाव के दौरान सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुए गीत के बाद, प्रसिद्ध शायर मंजर भोपाली को धमकी भरे फोन आ रहे हैं और उन्हें लगातार धमकी दी जा रही है।

मैं अपनी बैंक रिकॉर्ड देता हूँ, देश की बर्बादी का हिसाब देता हूँ..। 1990 में शायर मंजर भोपाली ने शब्दों से भरा एक गीत लिखा था। 1991 में वॉशिंगटन में उन्होंने इसे पहली बार पढ़ा था। लंबे समय तक मंजर ने इस गीत को नहीं पढ़ा और कहीं इसका जिक्र नहीं किया। लेकिन चुनाव के दौरान इस गीत का वीडियो अचानक वायरल हुआ। लाखों लोगों ने इसे विभिन्न प्लेटफार्मों पर शेयर किया। इसके बाद हड़कंप मच गया।

दशकों पुराने इस गीत के वायरल होने से सरकार को इसका विरोध महसूस हुआ। शायर मंजर भोपाली को इसके बाद कई तरह की धमकियां मिलने लगी हैं।दशकों पुराने इस गीत के वायरल होने से सरकार को इसका विरोध महसूस हुआ। शायर मंजर भोपाली को इसके बाद कई तरह की धमकियां मिलने लगी हैं।

मंजर पर फोन, मैसेज और व्यक्तिगत बातचीत के माध्यम से इस गीत को सोशल मीडिया से बाहर करने का दबाव डाला जा रहा है। सत्ताधारी पार्टी के खिलाफ कुछ भी कहने की उनकी इच्छा नहीं है और इस गीत को सोशल मीडिया पर शेयर नहीं किया है, ऐसी सारी धमकियों का एकमात्र अर्थ है। ऐसे में, वे इस गीत को किसी प्लेटफार्म से कैसे हटा सकते हैं? मंजर ने ऐसे सभी लोगों को यह जरूर बताया है कि सरकार के पास सभी सूत्र हैं, जो वे चाहें तो जहां से चाहें हटाना या बढ़ाना कर सकते हैं।

गीतकार शायर मंजर भोपाली ने बताया कि वे लगभग 45 साल से मंचों पर काम कर रहे हैं। उन्हें बार-बार आते-जाते देखा है। इस अवधि में बहुत से बदलाव हुए हैं। लेकिन फिलहाल मुझे अजीब तरह की थकान महसूस हो रही है। इस घुटन में सबसे अधिक एक कलाकार है। वह न तो लिख सकता है, न बोल सकता है।

यह देश राम का है, चिश्तियों का देश, मंजर भोपाली कहते हैं. यहां कई चिश्ती आए थे और गुरु नानकजी और गौतम बुद्ध ने प्रेम फैलाया था। लेकिन आज राजनीतिक भाषा कुछ बदली हुई लगती है। मंजर कहते हैं कि आज सियासत से आने वाले शब्द बचपन की तरह ही हैं। वे कहते हैं कि राजनीति आज बहुत छोटी हो गई है।

140 करोड़ मेरे मुहाफिज अचानक हुए घटनाक्रम के बाद भी मंजर भोपाली सहज ही दिखाई देते हैं। इस भय पर वे कहते हैं कि उनकी सुरक्षा करने के लिए देश में 140 करोड़ बहन-भाई हैं, इसलिए उन्हें किसी का डर या खौफ नहीं है। जब वे देश छोड़ते हैं, देश ने उन्हें जो प्यार और सम्मान दिया है, वह और गहरा जाता है। वे बताते हैं कि वे अब तक चौबीस बार अमेरिका गए हैं, लेकिन अपने देश से दूर रहते हुए अपने देश का सम्मान पराया देश में मिलता है।

यह भी पढ़े:-

किताब के पर नाम विवाद: मध्य प्रदेश हाइकोर्ट का नोटिस करीना कपूर को

Karena Kapoor को धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया गया है: क्रिस्टोफर एंथोनी, जबलपुर सिविल लाइन निवासी, ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer