Search
Close this search box.

ग्वालियर राजघराने की राजमाता माधवी का निधन {15-05-2024}

ग्वालियर राजघराने की राजमाता माधवी का निधन

ग्वालियर राजघराने की राजमाता माधवी का निधन, सीएम समेत अन्य नेताओं ने शोक जताया केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की मां राजमाता माधवी राजे सिंधिया का निधन हो गया। उन्होंने बुधवार को एम्स अस्पताल, दिल्ली में अंतिम सांस ली। उन्हें आज ग्वालियर में अंतिम संस्कार दिया जा सकता है।

ग्वालियर राजघराने की राजमाता माधवी का निधन

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की मां और ग्वालियर राजघराने की राजमाता माधवी राजे सिंधिया का बुधवार सुबह निधन हो गया। वह सत्तर वर्ष की थीं। माधवी राजे काफी समय से बीमार थी। 15 फरवरी को एम्स में भर्ती होने के बाद से ही उनकी हालत खराब हो गई थी।

दिल्ली के एम्स के सूत्रों ने बताया कि माधवी राजे ने सुबह 9:28 बजे अपनी अंतिम सांस ली। पिछले कुछ दिनों से वह जिंदगी के लिए संघर्ष कर रही थीं और वेंटिलेटर पर थीं। 15 फरवरी को उन्हें एम्स में भर्ती किया गया था। उन्हें सेप्सिस और निमोनिया भी था। सात मई को गुना-शिवपुरी संसदीय सीट पर मतदान हुआ था, जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा के प्रत्याशी हैं। सिंधिया ने चुनाव प्रचार के दौरान दिल्ली का लगातार दौरा किया था।

केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की मां राजमाता माधवी राजे सिंधिया मूल रूप से नेपाल की रहने वाली थीं। नेपाल के राजघराने से थे। उनके दादा जुद्ध शमशेर बहादुर ने नेपाल का प्रधानमंत्री पद संभाला था। नेपाल के राजघराने से थे। उनके दादा जुद्ध शमशेर बहादुर ने नेपाल का प्रधानमंत्री पद संभाला था। 1966 में उनका विवाह माधवराव सिंधिया से हुआ था।

15 फरवरी को दिल्ली के एम्स में माधवी राजे को सांस में तकलीफ होने पर भर्ती किया गया था। वह स्वास्थ्य सहायता प्रणाली (वेंटिलेटर) में थीं। ज्योतिरादित्य ने खुद गुना में चुनाव प्रचार करते समय राजमाता की बीमारी की सूचना दी थी। भाजपा ने दो मार्च को 195 प्रत्याशियों की सूची में सिंधिया को गुना-शिवपुरी से चुना था। सिंधिया ने तीन दिन बाद अपने क्षेत्र में पहला कार्यक्रम किया था। उस समय, वह राजमाता को बीमार बताया। तुम भी मेरे भाई, बहन और मां-पिता हो। मैं अपने परिवार को परेशान नहीं देख सकता। ओलावृष्टि ने फसलों को क्षतिग्रस्त कर दिया है। मैं भी आपसे मिलने आना ही चाहता था।

ज्योतिरादित्य अपनी मां के बहुत करीब थे। ज्योतिरादित्य भी अपनी माँ की बीमारी के कारण भाजपा के कार्यक्रमों से दूर रहे। सिर्फ केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह का कार्यक्रम था। तब से वे दिल्ली में ही रहे हैं। चुनाव प्रचार के दौरान भी दिल्ली घूमते रहे। ज्योतिरादित्य का पूरा परिवार चुनाव प्रचार समाप्त होते ही दिल्ली आ गया था।

सिंधिया कार्यालय ने कहा “बड़े दुःख के साथ ये साझा करना चाहते हैं कि राजमाता साहब नहीं रही,” जारी केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के कार्यालय से जारी बयान में कहा गया है। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की माता और ग्वालियर राजघराने की राजमाता माधवी राजे सिंधिया का इलाज पिछले दो महीनों से दिल्ली के एम्स अस्पताल में चल रहा है। पिछले दो हफ्तों में स्थिति बहुत जटिल थी। उन्होंने आज सुबह 9.28 बजे दिल्ली के एम्स अस्पताल में अपनी अंतिम सांस ली। ॐ शांति।

यह भी पढ़े:-

कांग्रेस के चक्रव्यूह में भाजपा: हरियाणा में भाजपा कांग्रेस के चक्रव्यूह में फंस गई है

कांग्रेस के चक्रव्यूह में भाजपा: हरियाणा में भाजपा कांग्रेस के चक्रव्यूह में फंस गई है, जहां मनोहर और हुड्डा की साख दांव पर है और हाई कमान के सामने दोनों की अग्निपरीक्षा है। सरकार से तीन विधायकों का समर्थन वापस लेने के बाद समीकरण बदल गया है। वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर और हुड्डा दोनों की साख दांव पर है।पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post