Search
Close this search box.

Chhattisgarh: झारखंड हाईकोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री हेमंत सोरेन को बड़ा झटका दिया {02-05-2024}

Chhattisgarh: झारखंड हाईकोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री हेमंत सोरेन को बड़ा झटका दिया

Chhattisgarh: झारखंड हाईकोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री हेमंत सोरेन को बड़ा झटका दिया जब उन्हें 31 जनवरी को प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार कर लिया। उन पर जमीन घोटाले के मामले में धन शोधन का आरोप लगाया गया है। वर्तमान में पूर्व मुख्यमंत्री रांची की बिरसा मुंडा जेल में न्यायिक हिरासत में हैं।

Chhattisgarh: झारखंड हाईकोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री हेमंत सोरेन को बड़ा झटका दिया

झारखंड हाईकोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को बड़ा झटका दिया है। हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी की याचिका अदालत ने खारिज कर दी। अंतरिम जमानत की मांग भी खारिज कर दी गई। 28 फरवरी को सुनवाई पूरी होने पर हाईकोर्ट के कार्यकारी न्यायाधीश और न्यायाधीश नवनीत कुमार की खंडपीठ ने फैसला सुरक्षित रखा था।

अदालत ने भी हेमंत सोरेन को कुछ राहत दी है। उन्हें अपने चाचा के श्राद्ध कार्यक्रम में छह मई को भाग लेने की अनुमति दी गई है। सोरेन को मीडिया से दूर रहने की सलाह दी गई।हेमंत सोरेन ने सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में कहा कि ED जिस जमीन की बात कर रहा है, वह उनके नाम कभी नहीं रही है. सुनवाई 6 जून को होगी। हेमंत सोरेन ने भी फैसला देरी होने पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की, जो छह मई को सुनवाई होगी।

27 अप्रैल को सोरेन को रांची की विशेष पीएमएलए अदालत से झटका लगा था। उन्हें भूमि घोटाले के एक मामले में रांची की विशेष पीएमएलए अदालत ने अंतरिम जमानत देने से इनकार कर दिया था। शनिवार सुबह हेमंत सोरेन के पिता और झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन के भाई राम सोरेन का निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार थे। सोरेन ने अपने चाचा के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए अदालत से तीन सप्ताह की अंतरिम जमानत मांगी थी। हालाँकि, सुनवाई करते हुए अदालत ने उन्हें जमानत नहीं दी।

ईडी को एक सप्ताह का समय दिया गया था कि प्रवर्तन निदेशालय ने 31 जनवरी को हेमंत सोरेन को गिरफ्तार कर लिया था। उन पर जमीन घोटाले के मामले में धन शोधन का आरोप लगाया गया है। वर्तमान में पूर्व मुख्यमंत्री रांची की बिरसा मुंडा जेल में न्यायिक हिरासत में हैं। ईडी को सोरेन की जमानत याचिका पर जवाब देने के लिए हाईकोर्ट ने एक सप्ताह अतिरिक्त समय दिया था।

सोरेन के खिलाफ जांच रांची में 8.86 एकड़ जमीन से जुड़ी है। ED का आरोप है कि इसे अवैध रूप से पकड़ लिया गया था। सोरेन, प्रसाद और सोरेन के कथित ‘फ्रंटमैन’ राजकुमार पाहन और हिलारियास को एजेंसी ने गिरफ्तार किया।30 मार्च को, एजेंसी ने सोरेन, प्रसाद, सोरेन के कथित ‘फ्रंटमैन’ राज कुमार पाहन, हिलारियास कच्छप और पूर्व मुख्यमंत्री के कथित सहयोगी बिनोद सिंह के खिलाफ विशेष पीएमएलए अदालत में आरोपपत्र दायर किया। रांची की एक विशेष अदालत ने सोरेन पर आरोप लगाया कि उनकी गिरफ्तारी राजनीतिक उद्देश्य से हुई थी और उन्हें भाजपा में शामिल होने के लिए मजबूर करने की एक सुनियोजित साजिश का एक भाग था।

यह भी पढ़े:-

COVID-19: खून का थक्का कोविशील्ड से जम सकता है; टीका बनाने वाली एस्ट्राजेनेका ने साइड इफेक्ट्स को खारिज कर दिया।
स्वास्थ्य: एस्ट्राजेनेका ने साइड इफेक्ट्स की बात ब्रिटेन के हाईकोर्ट में पेश किए गए दस्तावेजों में स्वीकार की है। वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स को स्वीकार करने के बाद भी, कंपनी इसके बुरे प्रभावों या बीमारियों का विरोध करती है। भारत भी इस खबर से महत्वपूर्ण है।पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer