Search
Close this search box.

Pradesh: कांग्रेस की तीसरी सूची में अनुभव को अधिक महत्व देते हुए{30-04-2024}

Pradesh: कांग्रेस की तीसरी सूची में अनुभव को अधिक महत्व देते हुए

Pradesh: कांग्रेस की तीसरी सूची में अनुभव को अधिक महत्व देते हुए, पार्टी प्रमुख लुधियाना को पंजाब में 12 सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए गए हैं, जो एक ‘हॉटेस्ट’ सीट हैं। फिलहाल फिरोजपुर का पेंच फंसा हुआ है। पार्टी ने इस बार दो हिंदू और दलित नेता भी चुनाव मैदान में उतारे हैं। इनमें आनंदपुर साहिब से विजय इंदर सिंगला और पटियाला से पार्टी धर्मवीर गांधी शामिल हैं।

Pradesh: कांग्रेस की तीसरी सूची में अनुभव को अधिक महत्व देते हुए

कांग्रेस ने अपनी तीसरी सूची में 12 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। इस सूची में सांसदों, विधायकों, पूर्व मुख्यमंत्रियों, डिप्टी मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों को चुनाव मैदान में उतारा गया है।
पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग के चुनाव मैदान में आने से लुधियाना पंजाब की हॉटेस्ट सीट बन गई है। वडिंग गिद्दड़बाहा से विधायक हैं और 20 सितंबर, 2021 से 11 मार्च, 2022 तक राज्य में कांग्रेस की सरकार में परिवहन मंत्री रहे हैं। वह भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे।

कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए रवनीत सिंह बिट्टू, शिअद प्रत्याशी रणजीत सिंह, आप के अशोक पप्पी पराशर, शिअद अमृतसर से अमृतपाल सिंह और बसपा के दविंदर सिंह रामगढि़या से उनका मुकाबला होगा।

गुरदासपुर का उपमुख्यमंत्री कांग्रेस ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा को टिकट दिया है। रंधावा ऑल इंडिया कांग्रेस से विधायक हैं और डेरा बाबा नानक से भी।गुरदासपुर का उपमुख्यमंत्री कांग्रेस ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा को टिकट दिया है। रंधावा डेरा बाबा नानक से विधायक हैं और राजस्थान के लिए ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी में महासचिव भी हैं। उनके पिता, संतोख सिंह, दो बार पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष रहे थे। गुरदासपुर में रंधावा का मुकाबला भाजपा के दिनेश बब्बू, आम आदमी पार्टी के अमनशेर कलसी, शिअद के प्रत्याशी दलजीत सिंह चीमा और बसपा के राजकुमार से होगा।

आनंदपुर साहिब से हिंदू नेता विजय इंदर सिंगला को अपना प्रत्याशी बनाया है। सिंगला पंजाब सरकार में प्रशासनिक सुधार एवं लोक निर्माण विभाग के मंत्री भी रहे हैं। 2009 से 2014 तक वह पंजाब के संगरूर से कांग्रेस सांसद थे। 2014 में वह संगरूर से भगवंत मान से 3,51,827 वोटों से हार गया था। उनकी राजनीतिक यात्रा पंजाब यूथ कांग्रेस से शुरू हुई थी और बाद में उपाध्यक्ष भी बने। आनंदपुर साहिब में सिंगला के सामने आप से मलविंदर सिंह कंग, शिअद से प्रेम सिंह चंदूमाजरा और अमृतसर से इंजीनियर कुशलपाल सिंह मान मैदान में हैं। भाजपा और बसपा ने अभी इस सीट पर अपने प्रत्याशी नहीं घोषित किए हैं।

खडूर साहिब सीट पर भी मुकाबला दिलचस्प है क्योंकि सभी सिख चेहरे चुनाव मैदान में हैं। कांग्रेस ने पूर्व विधायक कुलवीर सिंह जीरा को इस स्थान पर अपना प्रत्याशी बनाया है, जो 2017 में जीरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए थे। शिअद के विरसा सिंह वल्टोहा, भाजपा के मनजीत मन्ना मियाविंड और आप के लालजीत भुल्लर जीरा का मुकाबला करेंगे। फिलहाल, बसपा ने इस सीट से कोई उम्मीदवार नहीं घोषित किया है। यही नहीं, शिअद अमृतसर ने वारिस पंजाब दे के मुख्यमंत्री अमृतपाल सिंह को समर्थन देने का निर्णय लिया है।

लुधियाना में गुटबंदी को रोकना भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि कांग्रेस ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को लुधियाना संसदीय सीट पर चुनाव मैदान में उतारा है। यहां चल रही गुटबंदी को रोकना राजा वड़िंग के लिए एक बड़ी चुनौती है। राजा वड़िंग को भी पार्टी छोड़कर अन्य पार्टियों में भागने से रोका जाएगा।

लुधियाना में गुटबंदी को खत्म करने में राजा वड़िंग सफल होते हैं, तो उनकी नैया पार होने में कुछ कामयाबी मिल सकती है. हालांकि, अपने प्रमुख प्रतिद्वंद्वी और पूर्व साथी रवनीत सिंह बिट्टू, जो कांग्रेस छोड़कर भाजपा की टिकट से चुनाव लड़ रहा है, की योजनाओं को समझकर, राजा वड़िंग को उनकी नैया पार होने में कुछ कामयाबी मिल सकती हैआशु अपने साथियों के साथ अलग-अलग बैठकें करते रहे और चुनाव करते रहे। इसके बाद, हाईकमान को स्पष्ट रूप से पता चला कि कांग्रेस में गुटबंदी चरम सीमा पर है। कांग्रेस हाईकमान ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष को ही उतारना पड़ा ताकि उसी गुटबंदी को दूर किया जा सके।

पंजाब कांग्रेस ने अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग के नाम की चर्चा करते ही पूर्व मंत्री भारत भूषण आशु के समर्थकों ने सोशल मीडिया पर विरोध शुरू कर दिया। कांग्रेस में रहकर पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष का विरोध पार्टी को घातक हो सकता है। आशु के प्रशंसकों ने पूरी तरह से उम्मीद की कि पार्टी भारत भूषण आशु को बिट्टू के खिलाफ चुनाव करेगी।पार्टी ने भारत भूषण आशु को बिट्टू के खिलाफ चुनाव लड़ाने की पूरी उम्मीद थी, लेकिन पार्टी ने पंजाब के मुख्यमंत्री को उम्मीदवार घोषित किया। इसके बाद, आशु के समर्थकों ने सीधे लिखा कि बाहरी उम्मीदवार को पार्टी का प्रत्याशी बनाया गया है, इसलिए उनकी पार्टी से जय श्रीराम।

यह भी पढ़े:-

Sonipat: पत्नी के हत्यारे की सिर में चोट मारकर हत्या

सोनीपत: शनिवार रात को गांव बहालगढ़ स्थित संस्कृत स्कूल के पास चौकीदार के साथ देखा गया था गांव लिवासपुर निवासी योगेश उर्फ लालू (33), जो अपनी पत्नी के हत्यारे की सिर में चोट मारकर हत्या करने के बाद स्कूल परिसर में बैठकर शराब पीता था। बताया गया है कि वे रात भर एक साथ बैठकर शराब पीते थे। सुबह ग्रामीण स्कूल में योगेश का शव मिला।पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post