Search
Close this search box.

जातीय समीकरण पश्चिमी चुनाव निर्धारित करेंगे,कठिन संघर्ष हवा का रुख निर्धारित करेगा{02-04-2024}

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कई लोकसभा सीटें जातिगत समीकरण में उलझी

विपक्षी पार्टियों की योजना है कि पश्चिमी चुनाव जातिगत समीकरण बनाएगा। विपक्षी पार्टियों ने भाजपा के कोर वोट बैंक से प्रत्याशी निकाल दिया है। कठिन संघर्ष हवा का रुख निर्धारित करेगा।

जातीय समीकरण पश्चिमी चुनाव निर्धारित करेंगे. कठिन संघर्ष हवा का रुख निर्धारित करेगा

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कई लोकसभा सीटें जातिगत समीकरण में उलझी हुई हैं। सभी दल प्रतिस्पर्धी लग रहे हैं। भाजपा ने पश्चिम की अधिकांश सीटों पर जीत हासिल की है। सपा-बसपा गठबंधन ने पिछली बार बिजनौर, नगीना और सहारनपुर की सीटें जीती थीं। विशेष बात यह है कि इस बार सपा और बसपा नहीं मिली है, बल्कि रालोद भाजपा के साथ है।भाजपा को हराने के लिए सभी दलों ने जातिगत समीकरणों का सहारा लिया है। भाजपा और बसपा के गणित ने कई सीटों पर एक दिलचस्प मुकाबला बनाया है और सभी दलों ने प्रतिस्पर्धा की है। राजकुमार सैनी की रिपोर्ट, इन्हीं समीकरणों से जुड़ी हुई है..।

मेरठ सहित मुजफ्फरनगर और बिजनौर लोकसभा सीट पर भाजपा, बसपा और सपा-कांग्रेस गठबंधन के बीच कड़ा मुकाबला होगा, जो हवा का रुख तय करेगा। मुसलमान मतदाता अभी चुनाव की दिशा को भांप रहे हैं। उसके ध्यान में बसपा या सपा-कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशियों के सियासी दंगल है। ऐसा पूर्व के चुनावों में भी देखा गया है। भाजपा ने हरियाणा के सीएम नायब सैनी और यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को हरियाणा और उत्तर प्रदेश में अति पिछड़ी जातियों के मतदाताओं के विभाजित होने से बचाने के लिए इस्तीफा दे दिया है। यूपी में केशव प्रसाद मौर्य बहुत पिछड़े हैं।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ही नहीं, पूरे उत्तर प्रदेश में त्यागी, ठाकुर, ब्राह्मण, सैनी, प्रजापति, कश्यप, सेन और अन्य समाजों को भाजपा का मूल मतदाता माना जाता है। रालोद को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाटों की पार्टी बताया जाता है, लेकिन भाजपा अभी भी जाट समाज से बहुत सारे वोटों का हिस्सा लेती है। इसलिए जाट समाज भी राज्य और केंद्र सरकार में प्रतिनिधित्व करता है। रालोद भी इस बार भाजपा के साथ मिलकर काम करेंगे।जाट मतदाताओं को बताया जाता है कि वे रालोद के पक्ष में हैं और भाजपा के पक्ष में हैं।

बज़नौर: मुकाबला रोचक होगा

चौ. विजेन्द्र सिंह बिजनौर से बसपा के प्रत्याशी हैं। जाटों और दलितों के साथ अतिपिछड़ों के समीकरण ने चुनाव में विजय हासिल की है। इस लोकसभा सीट पर बहुत से जाट मतदाता हैं। 2019 में बसपा ने बिजनौर सीट जीती है। विजेन्द्र भी इसका लाभ उठाने की तैयारी कर रहे हैं। भाजपा-रालोद गठबंधन के प्रत्याशी चंदन चौहान हालांकि मीरापुर से रालोद विधायक हैं। गुर्जर जाति से संबंधित हैं। इनके पिता संजय चौहान सांसद हैं और उनके दादा चौ. नारायण सिंह उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम रहे हैं।यही कारण है कि चंदन चौहान का राजनीति से पुराना संबंध है। उन्हें भी इसका लाभ मिलने की उम्मीद है।

मेरठ में त्रिकोणीय चुनाव में बसपा ने देवव्रत त्यागी को चुनाव मैदान में उतारा है। रामायण में श्रीराम का किरदार निभाने वाले कलाकार अरुण गोविल इस बार भी भाजपा के वैश्य उम्मीदवार हैं। उधर, एससी प्रत्याशी भानु प्रताप सिंह को समाजवादी पार्टी ने पहले टिकट दिया था, लेकिन अब गुर्जर समाज से अतुल प्रधान को टिकट दिया गया है। इस बार तीनों हिंदू प्रत्याशी होने के कारण सपा और बसपा मुस्लिम वोटों की लड़ाई में होंगे, जबकि भाजपा को अपने गुर्जर और त्यागी वोटों को बचाने की चुनौती होगी।

मेरठ पिछले कुछ चुनावों से भाजपा कागढ़ रहा है। लेकिन इस सीट पर भी गुर्जर प्रत्याशी विजयी है। बसपा की उम्मीद है कि त्यागी समाज के साथ-साथ दलित और मुस्लिम भी शामिल होंगे, इसलिए परिणाम अप्रत्याशित हो सकते हैं। भाजपाई लोगों का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे के आगे किसी भी तरह की अलग-अलग कल्पना की कोई आवश्यकता नहीं है।

साहिबपुर: सहारनपुर में मुस्लिम कार्ड खेल की स्थिति एकदम समान है। भाजपा ने यहां राघव लखनपाल शर्मा को अपना प्रत्याशी चुना है। बसपा और कांग्रेस के इमरान मसूद प्रत्याशी हैं। यहां सबका ध्यान मुस्लिम वोट बैंक पर है। भाजपा को मुस्लिम वोटों को विभाजित करने से फायदा होगा।
कैरानाः कैराना लोकसभा सीट पर चुनाव एक दिलचस्प चरण में है। यहाँ हसन परिवार से इकरा हसन सपा-कांग्रेस की उम्मीदवार हैं। भाजपा के ठाकुर वोट बैंक को तोड़ने के लिए बसपा ने श्रीपाल राणा को प्रत्याशी बनाया है। भाजपा ने गुर्जर समाज के प्रदीप चौधरी को एक बार फिर मौका दिया है।

मुजफ्फरनगर: भाजपा के कोर वोट बैंक को तोड़ने की कोशिश बसपा ने मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट से दारा सिंह प्रजापति को प्रत्याशी बनाया है। यह भी कहा जाता है कि इस पद पर प्रजापति समाज की संख्या बहुत अधिक है। बसपा, दूसरी ओर, दलितों और प्रजापतियों के वोट बैंक के साथ चुनाव मैदान में है।कांग्रेस-सपा गठबंधन ने भी हरेन्द्र मालिक को चुनाव में उतारा है। यही नहीं, हरेन्द्र मलिक इस लोकसभा सीट पर हर समाज में लोकप्रिय हैं। उधर, भाजपा ने दो बार से केन्द्रीय मंत्री और सांसद संजीव बालियान को चुनाव में उतारा है। उन्हें जाट समाज और ओबीसी जातियों में अलग स्थान दिया जाता है। इनका भाजपा के वोट बैंक में अच्छा प्रभाव है।

नगिना: इस बार बीजेपी ने ओमकुमार को नगीना लोकसभा सीट सुरक्षित से प्रत्याशी बनाया है, जबकि सपा ने मनोज कुमार को उतारा है। बसपा ने सुरेन्द्र पाल सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है, जबकि आजाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद को पहली बार लोकसभा चुनाव में जीत मिली है।अनूसूचित जाति के वोट बैंक को तोड़ने के लिए सभी प्रत्याशी ने योजना बनाई है।

बागपत: रालोद-भाजपा गठबंधन ने जाट बिरादरी के डा. राजकुमार सांगवान को मैदान में उतारा है, जबकि सपा-कांग्रेस गठबंधन ने मनोज चौधरी को प्रत्याशी बनाया है, जिससे एक-दूसरे के वोट पर चोट पहुँची है। जबकि बसपा ने गुर्जर मतदाताओं की बड़ी संख्या को देखते हुए प्रवीण बंसल को चुना है। क्योंकि लगभग 28 प्रतिशत वोटर मुस्लिम हैं, 22 प्रतिशत जाट हैं और 10 प्रतिशत गुर्जर हैं।

जातीय समीकरण के कारण सभी एक-दूसरे के वोटों को चुराने के लिए तैयार हैं। बसपा ने गुर्जर वोटों पर भी नज़र रखी है।सपा ने मुस्लिमों, यादवों और जाटों के साथ-साथ पिछड़ों के वोटों पर ध्यान दिया है, जबकि बसपा अपने कोर वोटों के साथ-साथ गुर्जर वोटों पर भी ध्यान दिया है। रालोद-भाजपा की दृष्टि जाटों, ब्राह्मणों, गुर्जरों, पिछड़ों और वैश्यों पर भी है। समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी इससे बदल सकता है। Amir Pal Sharma का नाम चर्चा में है।

यह भी पढ़े:-

रैली में मुख्यमंत्री केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल ने उनका संदेश पढ़ा।

रैली में मुख्यमंत्री केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल ने उनका संदेश पढ़ा।
‘इंडिया’ गठबंधन आज दिल्ली में लोकसभा चुनाव से पहले एक रैली करेगा। रामलीला मैदान में केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल विपक्षी नेताओं के साथ मंच पर हैं। रैली में मुख्यमंत्री केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल ने उनका संदेश पढ़ा। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer