Search
Close this search box.

“अमेठी, रायबरेली या..”: क्या वरुण गांधी को कांग्रेस लोकसभा चुनाव में मौका मिलेगा? इस सीट पर सपा सहयोग दे सकती है

"अमेठी, रायबरेली या..": क्या वरुण गांधी को कांग्रेस लोकसभा चुनाव में मौका मिलेगा? इस सीट पर सपा सहयोग दे सकती है
भाजपा ने इस बार पीलीभीत से सांसद वरुण गांधी को टिकट नहीं दिया है। जितिन प्रसाद ने उनकी जगह टिकट हासिल किया है। टिकट कटने के बाद वरुण गांधी क्या फैसला लेंगे, इस पर सभी का ध्यान है।
रविवार की रात भाजपा ने 111 उम्मीदवारों की पांचवीं सूची जारी की है।

“अमेठी, रायबरेली या..”: क्या वरुण गांधी को कांग्रेस लोकसभा चुनाव में मौका मिलेगा? इस सीट पर सपा सहयोग दे सकती है

पांचवीं सूची में सबसे आश्चर्यजनक निर्णय था फायर ब्रांड नेता वरुण गांधी का पीलीभीत सीट से टिकट कटना। लंबे समय से चली आ रही वरुण गांधी के टिकट की बहस भी समाप्त हो गई। सब लोग अब वरुण गांधी के फैसले पर ध्यान दे रहे हैं। क्योंकि नामांकन करने के लिए कल तक का समय है। 19 अप्रैल को पीलीभीत में पहले चरण में मतदान होगा। नामांकन पत्रों को बुधवार को जमा करने का अंतिम दिन है। बताया जा रहा है कि आज सपा और बसपा के प्रत्याशी नामांकन दाखिल कर सकेंगे।

वास्तव में, पिछले चार चुनावों में भाजपा ने पीलीभीत लोकसभा सीट जीती है। आज, वरुण गांधी इस सीट से सांसद हैं। पार्टी की नीतियों को लेकर वरुण गांधी लंबे समय से मुखर रहे हैं। उनके बयानों पर बहुत बहस हुई। उनके बयानों में कुछ समय पूर्व से नरमी आई थी, लेकिन तब तक उनके टिकट को लेकर अटकलों का दौर शुरू हो गया था।

प्रतिनिधि खरीद चुके हैं नामांकन पत्र भाजपा की पहली सूची जारी होने के बाद कई दावेदारों के नाम चर्चा में आए। जितिन प्रसाद भी एक नाम था। रविवार की रात पार्टी ने जितिन प्रसाद का नाम सूची में चुना। इसके साथ ही शहर में चुनावी गतिविधियां बढ़ी हैं। Varun Gandhi का टिकट कटने के बाद नई बहसों ने जोर पकड़ लिया है। Varun Gandhi किसी पार्टी में भाग लेंगे। क्योंकि वरुण गांधी के प्रतिनिधि ने भी नामांकन पत्र खरीदे थे, जो अब चर्चा में हैं, नामांकन के पहले दिन

अब चर्चा है कि वरुण गांधी साइकिल पर चलेंगे या कांग्रेस का ‘हाथ’ पकड़ेंगे। भाजपा में शामिल होने की संभावनाएं भी बढ़ गई हैं क्योंकि गुरुवार को भाजपा के पीलीभीत लोकसभा सीट से घोषित प्रत्याशी पूर्व राज्यमंत्री भगवत सरन गंगवार का आश्चर्यजनक वीडियो सामने आया था। इसमें वह मीडिया से बात करते हुए भाजपा नेता वरुण गांधी को लेकर बहुत भावुक दिखाई दिया। उनका कहना था कि वरुण गांधी एक अच्छे नेता हैं।

यदि सपा अध्यक्ष चाहते हैं कि उन्हें पीलीभीत में चुनाव लड़ाया जाए, तो वह बिना किसी से कुछ कहे अपनी दावेदारी छोड़ देंगे। हालाँकि, वीडियो में बताई गई बातों से भगवत सरन ने कुछ देर बाद इनकार कर दिया। उन्होंने बताया कि उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा।

पार्टी ने इस बार उन्हें पीलीभीत लोकसभा क्षेत्र का प्रत्याशी घोषित किया है।

वह बुधवार को टिकट घोषित होने के बाद गुरुवार को मीडिया से पूछे जाने पर कहा कि वह अधिक आध्यात्मिक हैं और कम राजनैतिक हैं। परेशान लोगों की मदद करना, उनके गुरु ने कहा है। इसलिए, कोई व्यक्ति उनके खिलाफ नहीं है।वह भी वरुण गांधी की तारीफ कर बैठे। उसने कहा कि वरुण ही नहीं, उनकी बहन प्रियंका गांधी या भाई राहुल गांधी भी सपा अध्यक्ष से अनुरोध करेंगे कि वे पीलीभीत सीट छोड़ दें। बाद में उन्होंने दावा खारिज कर दिया। उन्होंने बताया कि उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, वरुण गांधी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं और कांग्रेस उन्हें अमेठी या रायबरेली से उम्मीदवार बना सकती है। क्योंकि कांग्रेस ने अभी तक इन दोनों सीटों पर अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया है भाजपा से टिकट कटने के बाद सांसद वरुण गांधी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, लेकिन यह स्पष्ट है कि वे पिछले कुछ समय से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे। यह भी संभव है कि वह पीलीभीत सीट से ही निर्दलीय क्षेत्र में उतर सकें।

यह भी पढ़े:-

रक्षामंत्री ने सैनिकों के साथ होली खेली: लेह में राजनाथ सिंह ने कहा कि यह शौर्य और वीरता की राजधानी है

रक्षामंत्री ने सैनिकों के साथ होली खेली: लेह में राजनाथ सिंह ने कहा कि यह शौर्य और वीरता की राजधानी है लेह में होली मनाने के लिए लद्दाख के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह पहुंचे। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer