Search
Close this search box.

‘एसबीआई 21 मार्च तक चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सारी जानकारियां’, सुप्रीम कोर्ट ने राज्य बैंक को चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सभी जानकारियां देने का आदेश दिया {18-03-2024}

'एसबीआई 21 मार्च तक चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सारी जानकारियां', सुप्रीम कोर्ट ने राज्य बैंक को चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सभी जानकारियां देने का आदेश दिया

‘एसबीआई 21 मार्च तक चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सारी जानकारियां’, सुप्रीम कोर्ट ने राज्य बैंक को चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सभी जानकारियां देने का आदेश दिया. सुप्रीम कोर्ट ने सख्त शब्दों में कहा कि एसबीआई को 21 मार्च शाम पांच बजे तक सभी जानकारी निर्वाचन आयोग को देनी चाहिए।

‘एसबीआई 21 मार्च तक चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सारी जानकारियां’, सुप्रीम कोर्ट ने राज्य बैंक को चुनावी बॉन्ड से जुड़ी सभी जानकारियां देने का आदेश दिया

सुप्रीम कोर्ट में चुनावी बॉन्ड से जुड़े सभी विवरणों का खुलासा करने को लेकर सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश चंद्रचूड़ ने कहा कि एसबीआई को जानकारी देने में चयनात्मक नहीं होना चाहिए। हम चाहते हैं कि एसबीआई के पास चुनावी बॉन्ड से जुड़ी हर जानकारी सार्वजनिक की जाए। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि हमने एसबीआई से सभी जानकारी देने को कहा था, जिसमें चुनावी बॉन्ड नंबर भी शामिल थे। SBI चुनावी बॉन्ड के बारे में पूरी जानकारी दें। सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट रूप से कहा कि किसी भी सूचना को सार्वजनिक किया जाएगा। भारतीय रिजर्व बैंक हमारे आदेश का पालन करे।

 

सुप्रीम कोर्ट को एसबीआई के वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने कहा, “हर जानकारी को हम देंगे, कोई भी छिपाकर नहीं रखेंगे।” बैंक अपने पास मौजूद कोई भी सूचना छिपा नहीं लेगा। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि एसबीआई एक हलफनामा दायर कर बताएगा कि उसने कोई जानकारी नहीं छिपाई है।कोर्ट ने एसबीआई को 21 मार्च शाम पांच बजे तक पूरी जानकारी देने का आदेश दिया।

केंद्रीय सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि काले धन पर नियंत्रण का अंतिम लक्ष्य था और सुप्रीम कोर्ट को पता होना चाहिए कि इस निर्णय को अदालत के बाहर कैसे लागू किया जा रहा है। इस समय, तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट से इस बारे में कुछ दिशा-निर्देश देने की मांग की है। इस मामले में, कई सोशल मीडिया पोस्ट की शुरुआत हुई है।

सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट आदेश दिए: सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान एसबीआई को फटकार लगाई, प्रशांत भूषण वकील ने कहा। कोर्ट ने एसबीआई से पूछा कि चुनावी बॉन्ड से जुड़ी जानकारी में हर बॉन्ड पर नंबर क्यों नहीं हैं? प्रशांत भूषण ने बताया कि अदालत ने सख्त लहजे में एसबीआई से कहा कि वह इसका खुलास करे। 21 मार्च को शाम 5 बजे तक एसबीआई को हलफनामा देना होगा।

हम संविधान का पालन करते हैं- सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश चंद्रचूड़ ने कहा कि हम संविधान और कानून के शासन के अनुसार काम करते हैं। हम भी न्यायाधीशों के रूप में चर्चा करते हैं। फैसले के अपने निर्देशों को ही हम लागू कर रहे हैं।सुप्रीम कोर्ट ने दिखाया था

2018 में योजना की शुरुआत के बाद से, भारतीय स्टेट बैंक ने 30 किस्तों में 16,518 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड जारी किए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने पहले भी निर्वाचन आयोग को 12 अप्रैल 2019 से खरीदे गए चुनावी बॉन्ड की जानकारी एसबीआई को देने का आदेश दिया था। चुनावी बॉन्ड जारी करने का अधिकार एसबीआई को है।

एसबीआई ने मंगलवार शाम को चुनाव आयोग को चुनाव बॉन्ड खरीदने वाली संस्थाओं का विवरण भेजा। शीर्ष अदालत ने निर्वाचन आयोग को 15 मार्च शाम पांच बजे तक बैंक द्वारा दी गई जानकारी को अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड करने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़े:-

पाकिस्तान: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि अगर ईवीएम पाकिस्तान में होते तो चुनावों में कोई गड़बड़ी नहीं होती

इमरान ने कहा कि पाकिस्तान के चुनाव आयोग, कुछ राजनीतिक दलों और ‘संस्थान’ ने देश में ईवीएम लाने की योजना को विफल कर दिया।पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer