Search
Close this search box.

Kurukshetra : मौसम लगातार बदल रहा है; फिर से पारा गिरने से ठंड बढ़ेगी, गेहूं की फसल होगी फायदेमंद {21-02-2024}

 

पिछले कुछ दिनों से हरियाणा में मौसम बदल रहा है। मैदानी क्षेत्रों में भी बर्फबारी का असर दिखाई दे रहा है, जिससे आने वाले दिनों में पारा फिर से गिरेगा, जिससे ठंड का असर बढ़ेगा।

आने वाले दिनों में पारा फिर से गिरेगा, जिससे ठंड का असर बढ़ेगा

आने वाले दिनों में पारा फिर से गिरेगा, जिससे ठंड का असर बढ़ेगा

पिछले चार दिनों में कुरुक्षेत्र में मौसम में बदलाव देखा गया है। लोगों को इसके चलते तेज हवाओं और बादलों का सामना करना पड़ा। जबकि बुधवार को भी मौसम बदल गया था। सुबह से ही अल घना कोहरा छाया रहा, 10 से 15 फीट तक दृश्यता नहीं मिली। सुबह से ही घना कोहरा छाया रहा, 10 से 15 मीटर की दूरी पर वाहनों का शोर भी सुनाई देता था। घने कोहरे के चलते वाहन चालकों को बहुत मुश्किल हुई।

साथ ही, पहाड़ी इलाकों में लगातार बर्फबारी के कारण मैदानी इलाकों में भी ठंड का प्रभाव फिर से दिखाई देने लगा है. जहां ठंड फिर से दस्तक दे रही है, वहीं कोहरा फिर से छाने लगा है। सोमवार रात को जिले भर में हल्की बूंदाबांदी हुई, जिससे मौसम फिर से ठंडा हुआ। मौसम विभाग ने कहा कि आने वाले दिनों में ठंड का प्रभाव फिर से दिखाई देगा। बुधवार को न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम 23 डिग्री सेल्सियस रहेगा।बादल छाए रहने के चलते धूप खिलने की संभावना बहुत कम है।

कृषि वैज्ञानिक डॉ. सीबी सिंह का कहना है कि मौसम पिछले कुछ दिनों से बदल रहा है। मैदानी क्षेत्रों में भी बर्फबारी का असर दिखाई दे रहा है, जिससे आने वाले दिनों में पारा फिर से गिरेगा, जिससे ठंड का असर बढ़ेगा। कम तापमान गेहूं की फसल के लिए अच्छा रहेगा। पिछले दिनों जिले भर में हल्की बारिश हुई है, जिससे गेहूं की फसलों को फायदा हुआ है, लेकिन तेज हवाओं ने भी गेहूं की फसलों को नुकसान पहुँचाया है, जिससे कई स्थानों पर फसलें गिर गई हैं।

तापमान की आगे की जानकारी सेल्सियस डिग्री में दी गई है

वीरवार को अधिकतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस रहेगा, शुक्रवार को 22 डिग्री सेल्सियस रहेगा, शनिवार को 22 डिग्री सेल्सियस रहेगा, रविवार को 22 डिग्री सेल्सियस रहेगा, रविवार को 22 डिग्री सेल्सियस रहेगा, सोमवार को 22 डिग्री सेल्सियस रहेगा, और रविवार को तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रहेगा

यह भी पढ़े:-

किसानों को एमएसपी से कम मूल्य पर मक्की-दाल बेचने का दबाव

मक्की और दालों की बढ़ती मांग से गिर रहा कपास का ग्राफ फिर भी किसान एमएसपी से कम मूल्य पर बेचते हैं। MSPI पर गारंटी से दालों का आयात कम होगा। कृषि विविधता भी बढ़ेगी। पुरा पढ़े

 

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer