Search
Close this search box.

नामांकन में बारामती विवाद: सुप्रिया सुले और अजित पवार के बीच संघर्ष {18-02-2024}

एक परिवार का संघर्ष:भाजपा के कई नेता मेरे दोस्त हैं, सुप्रिया सुले ने कहा, “यह वैचारिक लड़ाई है, व्यक्तिगत नहीं।” गडकरी जैसे अच्छे नेता की प्रशंसा करने में कोई बुराई नहीं है। मेरे परिवार का बहुत बड़ा हिस्सा राजनीति से दूर है, इसलिए उन्हें इसमें शामिल नहीं किया जाना चाहिए।

एक परिवार का संघर्ष
सुप्रिया सुले

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की नेता सुप्रिया सुले ने भाजपा के नेताओं के साथ रिश्तों पर दिया बयान

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नाम के बाद अब शरद पवार और अजित पवार बारामती निर्वाचन क्षेत्र को लेकर बहस कर रहे हैं। दोनों के बीच संघर्ष अभी भी जारी है। महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने शुक्रवार को बारामती से सांसद सुप्रिया सुले के खिलाफ चुनावी अभियान शुरू किया और संकेत दिए कि वह अपनी चचेरी बहन को आगामी लोकसभा चुनाव में पराजित कर देंगे।

शुक्रवार को, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने बारामती से सांसद सुप्रिया सुले के खिलाफ चुनावी बिगुल फूंका और संकेत दिए कि वह अपनी चचेरी बहन के खिलाफ आगामी लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार उतार सकते हैं। अब चर्चा है कि अजित अपनी पत्नी सुनेत्रा पवार को चुनावी मैदान में उतार सकते हैं। Ajit के तीखे बयानबाजी के बाद, सुले ने रविवार को एक बार फिर कहा कि लोकतंत्र में सभी को चुनाव में खड़े होने का अधिकार है।

यह एक परिवार का संघर्ष कैसे हो सकता है?

एनसीपी शरदचंद्र पवार की नेता सुप्रिया सुले ने सुनेत्रा पवार के चुनावी मैदान में उतरने पर कहा, ‘यह परिवार की लड़ाई कैसे हो सकती है? लोकतंत्र में किसी को भी चुनाव लड़ने का अधिकार है।कल भी मैंने कहा था कि मैं एक मजबूत उम्मीदवार से बात करने को तैयार हूं अगर ऐसा है। मैं बैठकर किसी भी विषय पर चर्चा करने के लिए तैयार हूँ, चाहे स्थान, समय या विषय हो।’

सुले ने नेताओं से जुड़ने पर कहा, ‘यह विचारों की लड़ाई है। यह एक व्यक्तिगत संघर्ष नहीं है। भाजपा के बहुत से नेता मेरे संपर्क में हैं। आप भी मेरे काम करते हैं। गडकरी जैसे अच्छे नेता की प्रशंसा करने में कोई बुराई नहीं है। मेरे परिवार का बहुत बड़ा हिस्सा राजनीति से दूर है, इसलिए उन्हें इसमें शामिल नहीं किया जाना चाहिए। इन सबसे भाभी को क्या लेना देना है? यह व्यक्तिगत संघर्ष नहीं है, बल्कि विचारों का संघर्ष है। ‘

बिना नाम लिए, अजित पवार ने कहा कि वह सिर्फ भाषण देती हैं और पुरस्कार जीतती हैं, लेकिन क्षेत्र की समस्याओं को हल नहीं करती हैं। उनका कहना था कि समस्याओं का समाधान नहीं करने वाले सदस्यों को नहीं भेज सकते। सिर्फ संसद में बोलना कुछ नहीं है। क्या होगा अगर वह भाषण देगा और बारामती में काम नहीं करेगा?

शनिवार को NCP प्रमुख शरद पवार ने कहा, ‘लोकतंत्र में, सभी को चुनाव में खड़े होने का अधिकार है। अगर कोई उस अधिकार का प्रयोग कर रहा है तो शिकायत करने का कोई कारण नहीं है। लोगों के सामने अपनी राय व्यक्त करनी चाहिए। लोग जानते हैं कि पिछले 55 से 60 वर्षों में हमने क्या किया है।’

यह बहुत दुःखद और दुर्भाग्यपूर्ण है: सुप्रिया सुले ने शनिवार को कहा, “यह एक लोकतंत्र है।” यहां प्रत्येक व्यक्ति को चुनाव लड़ने का अधिकार है, इसलिए यह कहना सही है। लेकिन, यह दुर्भाग्यपूर्ण और दर्दनाक है कि संसद लोकतंत्र का मंदिर है, और कल हम जैसे प्रतिबद्ध और समर्पित लोगों के लिए संसदीय प्रक्रियाओं का मजाक उड़ाया गया। क्योंकि हम देखते हैं कि जवाहरलाल नेहरू, अटल बिहारी वाजपेयी और सुषमा स्वराज ने संसद में चर्चा करके कई बड़े मतभेद पैदा किए। मुझे हैरान और निराश करता है अजित पवार जैसे वरिष्ठ नेता ने ऐसा कुछ कहा है, जो मुझे हैरान और निराश करता है।’

महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार ने उनके खिलाफ उम्मीदवार उतारने की घोषणा की, लेकिन बारामती लोकसभा क्षेत्र पारंपरिक रूप से शरद पवार और उनकी बेटी सुप्रिया सुले का गढ़ रहा है। अजित पवार ने यह भी कहा कि वह बारामती से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे अगर उनका उम्मीदवार सुले के खिलाफ जीतता है और मतदाताओं से निर्वाचन क्षेत्र के विकास के लिए मतदान करने की अपील की।

अब आप बारामती निर्वाचन क्षेत्र और पवार परिवार के बीच का संबंध जानते हैं. शरद पवार ने 1967, 1972, 1978, 1980, 1985 और 1990 में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव जीता था।और 1984, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लोकसभा चुनावों में बारामती से जीत हासिल की। इसके अलावा, 2009 में महाराष्ट्र और माढा से दो राज्यसभा चुनाव जीते थे।

• सुप्रिया सुले पिछले तीन बार से बारामती लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व कर रही हैं।
• 1991 में अजित पवार ने बारामती लोकसभा चुनाव जीता और बाद में सात बार विधानसभा चुनाव जीता: 1991, 1995, 1999, 2004, 2009, 2014 और 2019 वर्षों में|

यह भी पढ़े:-

पति-पत्नी विवाद: जुदाई से भावुक हुई पत्नी ने किया अपने पति के साथ चलने का फैसला

कोर्ट में अपने पति को देखकर भावुक होकर पत्नी ने कहा कि वह साथ चलेगी और पल्लू से बांध लिया। रह रहे हैं सात साल दूसरे शाहबाद तहसील कोर्ट में पहुंचे पति-पत्नी के बीच विवाद हुआ।पुरा पढ़े

 

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer