Search
Close this search box.

राम मंदिर में गूंजेगी विश्व की सबसे लंबी बांसुरी  मुस्लिम परिवार ने किया तैयार{20-01-2024}

Ram Temple: 21.6 फुट विश्व की सबसे लंबी बांसुरी..। पीलीभीत के मुस्लिम परिवार ने अयोध्या राम मंदिर को तैयार किया, जिससे अयोध्या धाम में गूंजेंगे स्वर: 21.6 फुट लंबी पीलीभीत के मुस्लिम परिवार ने बांसुरी बनाई है। बांसुरी योध्या के संग्रहालय में यह सुरक्षित रखी जाएगी। इस बांसुरी की आवाज अयोध्या में सुनाई देगी।

विश्व की सबसे लंबी बांसुरी.

श्रीरामलला प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव: पीलीभीत के मुस्लिम परिवार ने राम मंदिर के लिए तैयार की विश्व की सबसे लंबी बांसुरी

बांसुरी की एक विशेषता है कि यह दोनों तरफ से बज सकती है।अपने-अपने जिले की प्रसिद्ध वस्तुओं को श्रीरामलला प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में अयोध्या भेजा जा रहा है। 21.6 फुट लंबी बांसुरी पीलीभीत से इसी क्रम में अयोध्या भेजी जाएगी। वहां के संग्रहालय में बांसुरी को रखेंगे।

बांसुरी शहर के प्रसिद्ध कारीगर मरहूम नवाब अहमद की पत्नी हीना परवीन, उनके पुत्र अरमान नबी व उनके चाचा शमशाद ने साथियों के साथ तैयार साथियों को बांसुरी शहर के प्रसिद्ध कारीगर मरहूम नवाब अहमद की पत्नी हीना परवीन, उनके पुत्र अरमान नबी और उनके चाचा शमशाद ने बनाया है। उनका कहना था कि यह बांस वर्षों से एक महत्वपूर्ण घटना के लिए रखा गया था।राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ब्रज प्रांत के प्रचारक हरीश रौतेला ने शुक्रवार को एक कार्यक्रम में इस बांसुरी का पूजन किया। 26 जनवरी को यह बांसुरी अयोध्या भेजी जाएगी। जहां इसे संग्रहालय में रखेंगे।

लाल रोड में रहने वाले अरमान ने बताया कि 2021 में उन्होंने 16 फुट की विश्व की सबसे लंबी बांसुरी बनाई थी। यह बांसुरी गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में है। उस समय की सबसे लंबी बांसुरी यह थी। 21.6 फुट अब है, जो यह दुनिया में सबसे लंबी बांसुरी होगी।मुस्लिम परिवार की बांसुरी, हिना बी और अरमान, अयोध्या में गूंजेगी।

अरमान कहते हैं कि वे खाने के लिए बांसुरी बनाते हैं। यह बांसुरी करीब दो दशक पहले से असम के बांस से बनाई गई है। इस बांस को एक खास उद्देश्य से रखा गया था। 2021 में बनाई गई सबसे लंबी बांसुरी को इस्तेमाल करने जा रहे थे, लेकिन एक और बांस मिल गया तो इसे वापस लेकर रख दिया।

मैंने नहीं सोचा था कि भगवान श्रीराम की नगरी में इस बांस का उपयोग होगा। बांस की गोलाई, या व्यास, 3.5 इंच है। इस तरह के गोलाई के बांस अब नहीं मिलेंगे। बांसुरियों को बनाने में दस दिन लगे। बांसुरी का एक विशेषता है कि यह दोनों तरफ से बज सकता है।यह दोनों तरफ से बज सकता है। इसमें बांसुरी के दोनों ओर से सातों सुर लगाए गए हैं। बनाने में लगभग 70 से 80 हजार रुपये खर्च आए। काम किया गया है। हिना और उनके बेटे अरमान द्वारा बनाई गई बांसुरी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। ट्रक इस बांसुरी को अयोध्या ले जाएगा।

यह भी पढ़े:-

अनुसूचित जाति समुदायों की शिकायतों

PM मोदी: पीएम ने अनुसूचित जाति के समुदायों को योजनाओं से लाभ न मिलने की शिकायत पर सख्त रुख रखा है. समिति में गृह मंत्रालय, कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग, जनजातीय मामलों के मंत्रालय, कानूनी मामलों के मंत्रालय और सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग के सचिव शामिल हैं। पुरा पढ़े

 

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post