Search
Close this search box.

जोएआईटी परीक्षा: अभ्यर्थियों का आक्रोश, मुख्यमंत्री के आवास पर हुई मांगों की सुनवाई {19-01-2024}

Shimla: JOA IT का परिणाम नहीं मिलने पर आक्रोशित अभ्यर्थियों ने  शुक्रवार को मुख्यमंत्री के सरकारी आवास ओकओवर पहुंचे. मांगों पर सुनवाई नहीं मिलने पर वे मुख्यमंत्री के सरकारी आवास ओकओवर पहुंचे।

अभ्यर्थियों ने जूनियर ऑफिस असिस्टेंट (जोओए) आईटी पोस्ट कोड-817 भर्ती परीक्षा

शिमला: जूनियर ऑफिस असिस्टेंट (जोओए) आईटी पोस्ट कोड-817 की भर्ती परीक्षा में परिणाम ना मिलने पर आक्रोशित अभ्यर्थियों

अभ्यर्थियों ने जूनियर ऑफिस असिस्टेंट (जोओए) आईटी पोस्ट कोड-817 भर्ती परीक्षा का परिणाम नहीं पाया है। गुरुवार को अभ्यर्थियों ने राज्य सचिवालय के सामने धरना दिया और भर्ती परीक्षा का परिणाम जल्द ही जारी करने की मांग की। वहीं, शुक्रवार को मांगों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिलने पर अभ्यर्थी मुख्यमंत्री के सरकारी आवास ओकओवर पहुंचे। इस दौरान विद्यार्थियों ने भी नारेबाजी की। विरोधी मुख्यमंत्री से मुलाकात करने की मांग करते रहे।

लेकिन अभ्यर्थियों को सुरक्षा कर्मियों ने गेट के बाहर ही रोक दिया था।परीक्षार्थियों ने सरकार से मांग की है कि 31 मार्च 2024 से पहले JOA IT-817 के अंतिम परिणामों को जारी किया जाए। परीक्षार्थियों ने बताया कि प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग हमीरपुर ने वर्ष 2020–2021 में पोस्ट कोड-817 JOA IT के 1,867 पदों पर आवेदन मांगे थे। प्रदेश भर से लगभग एक लाख युवा ने इन नौकरी के लिए आवेदन किया। 21 मार्च 2021 को, आवेदन करने के बाद, आयोग ने लिखित परीक्षा ली। लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों को पहले एक फरवरी से 24 फरवरी 2022 और फिर दो मार्च और 22 जून 2022 को स्किल टेस्ट भी दिया गया था।

अगस्त 1 से 31 अगस्त 2022 तक, लिखित और स्किल टेस्ट में उत्तीर्ण 4,335 अभ्यर्थियों को पंद्रह अंकों की मूल्यांकन परीक्षा दी गई। इसके बावजूद, अंतिम परिणाम अभी तक जारी नहीं किया गया है। युवाओं ने कहा कि मुख्यमंत्री ने 60 दिन के भीतर सही निर्णय लेने का वादा किया था। प्रदेश सरकार ने इतने दिन बीत जाने के बाद भी कोई निर्णय नहीं लिया है। इसके परिणामस्वरूप अभ्यर्थियों को मानसिक कष्ट का सामना करना पड़ा है। बहुत सारे अभ्यर्थी ओवरऐज हो रहे हैं।

लाइब्रेरी, कोचिंग सेंटर सहित घर पर एक कर परीक्षा की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों को समय पर नौकरी नहीं मिली। युवाओं ने कहा कि राज्य सरकार ने कुछ अभ्यर्थियों की एक छोटी सी गलती के कारण पूरे चयन आयोग को रद्द कर दिया। यह तर्कपूर्ण नहीं है। युवाओं ने कहा कि हाईकोर्ट ने सशर्त नियुक्तियों की मांग की है। उनका कहना था कि परिणाम जल्द नहीं दिया जाएगा तो राज्य भर में हिंसक प्रदर्शन होगा।

यह भी पढ़े:-

आत्मसमर्पण के लिए अधिक समय

सुप्रीम कोर्ट: बिलकिस केस में 11 दोषियों में से तीन ने सुप्रीम कोर्ट पहुंचकर आत्मसमर्पण के लिए अधिक समय की मांग की।
बिलकिस बानो मामले में 11 दोषियों में से तीन ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है और जेल अधिकारियों के सामने आत्मसमर्पण करने के लिए अधिक समय की मांग की है। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post