Search
Close this search box.

“एक नजर में समलैंगिक विवाह पर न्याय: CJI का महत्वपूर्ण फैसला और बड़ी बातें”{17-10-2023}

यह सिर्फ एक शहरी अवधारणा नहीं है: लिंग परिवर्तन, पुलिस की ज्यादतियां, भेदभाव… CJI ने समलैंगिक जोड़ों के पक्ष में क्या कहा? बड़ी बातें
मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने सरकार की इस दलील को खारिज कर दिया कि समलैंगिकता एक शहरी अवधारणा है.

समलैंगिक विवाह

चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ समलैंगिक विवाह पर फैसला:

सुप्रीम कोर्ट समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने पर अपना फैसला सुना रहा है। इस फैसले के दौरान मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ (CJI DY
मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि यह सिर्फ शहरी अवधारणा नहीं है बल्कि गांवों में भी समलैंगिक जोड़े मौजूद हैं. सीजेआई ने केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि समलैंगिक लोगों के साथ उनके यौन रुझान के आधार पर भेदभाव न किया जाए।

क्या CJI को समलैंगिक जोड़ों के पक्ष में कुछ कहना चाहिए?

1. समलैंगिकता केवल शहरी वर्ग तक ही सीमित नहीं है। गाँवों में भी समलैंगिक जोड़े मौजूद हैं।

2. केंद्र और राज्य सरकारों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि समलैंगिक जोड़ों के साथ कोई भेदभाव न हो।

3. समलैंगिक जोड़ों की सहायता के लिए एक हेल्पलाइन बनाएं

4. बच्चे को लिंग परिवर्तन का ऑपरेशन तभी कराना चाहिए जब वह इसे समझने में सक्षम हो।

 

5. इंटरसेक्स बच्चों को ऑपरेशन के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए।

6. समलैंगिक जोड़ों को उनकी इच्छा के विरुद्ध परिवार में लौटने के लिए मजबूर न करें

7. समलैंगिकों को अधिकार देने के लिए कमेटी बनेगी

8. जीवन साथी का चुनाव अनुच्छेद 21 के तहत जीवन के अधिकार का हिस्सा है। हर किसी को अपना जीवन साथी चुनने का अधिकार है

9. यौन रुझान के आधार पर किसी के साथ भेदभाव नहीं किया जा सकता.

10. सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विषमलैंगिक जोड़ों की तर्ज पर समलैंगिकों को भी समान अधिकार मिले।

• सीजेआई ने कहा कि केंद्र का कहना है कि कोर्ट ऐसी शादी को मान्यता देकर संसद के अधिकार क्षेत्र में हस्तक्षेप करेगा, लेकिन हमारे सामने मौलिक अधिकारों का मुद्दा उठाया गया है.

• सीजीआई ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा, ‘यह मान लेना कि समलैंगिक लोग केवल शहरों में रहते हैं, उन्हें खत्म करने जैसा है।’ उन्होंने कहा कि यह सिर्फ शहरी अवधारणा नहीं है.

• सीजीआई ने अनुच्छेद 21 पर भी अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को अपना जीवन साथी चुनने का अधिकार होना चाहिए, हालांकि, यह सच है कि कुछ मामलों में साथी चुनने के अधिकार पर कानूनी प्रतिबंध हैं – जैसे कि प्रतिबंधित रिश्तों में शादी. लेकिन समलैंगिकों को भी दूसरों की तरह ही अपने पार्टनर के साथ रहने का अधिकार है।

• फैसले में सीजीआई ने कहा कि समलैंगिकता प्राचीन काल से ही अस्तित्व में है और आज भी यह समाज के हर वर्ग में मौजूद है. कोर्ट उनकी शादी को मान्यता नहीं दे सकता, लेकिन इस वर्ग को कानूनी अधिकार मिलना चाहिए.
सरकार का तर्क क्या था?

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से पहले सरकार ने 56 पेज का हलफनामा भी दाखिल किया था. इसमें साफ कहा गया कि समलैंगिक विवाह को मंजूरी नहीं दी जा सकती.

भारतीय परिवार की अवधारणा में पति, पत्नी और उनसे जन्मे बच्चे शामिल हैं। यह परिभाषा सामाजिक, सांस्कृतिक और कानूनी रूप से विवाह के विचार और अवधारणा में शामिल है। इसमें कोई छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए.’ ये भी कहा गया कि ये सिर्फ एक शहरी अवधारणा है.

‘आतंकी संगठन हमास के साथ खुलकर खड़ा हुआ ये मुस्लिम देश, खाई साथ खड़े रहने की कसम’ {17-10-2023}

‘आतंकी संगठन हमास के साथ खुलकर खड़ा हुआ ये मुस्लिम देश, खाई साथ खड़े रहने की कसम’

आतंकी संगठन हमास के ठिकानों पर गाजा पट्टी में इजराइल के हमले जारी हैं, जो दुनिया भर में विवादों और उत्पीड़न का स्रोत बन गए हैं। इस कठिनाई और संघर्ष के समय में, एक छोटे से मुस्लिम देश ने हमास के साथ खड़ा होने का बड़ा निर्णय

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer