Search
Close this search box.

सोनीपत चालक राजबीर की यात्रा: अंतिम संस्कार और मांगों का संघर्ष {16-11-2023}

हत्या की रात: सोनीपत चालक का अंबाला में शोकपूर्ण अंतिम संस्कार:-

सोनीपत चालक

सोनीपत चालक : रोडवेज चालक के शव का अंतिम संस्कार गमगीन वातावरण में अंबाला में हुआ
दिवाली की रात को सोनीपत चालक राजबीर अंबाला कैंट बस स्टैंड की पार्किंग में थे। जहां एक कहासुनी हुई तो कार सवार युवकों ने उन पर हमला किया। राजबीर की गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे चंडीगढ़ भेजा गया। जहां वे मर गए थे

दिवाली रात: हमले का शिकार, चंडीगढ़ भेजा गया, अंबाला में चली चालक की यात्रा:-

रोडवेज बस चालक राजबीर पटेल की दिवाली की रात को सोनीपत में हत्या कर दी गई, जिसके शव को वीरवार को सोनीपत में शोकपूर्ण वातावरण में अंतिम संस्कार दिया गया। उन्हें उनके बड़े बेटे अमित ने मुखाग्नि दी। चालक की हत्या के बाद नौकरी, आर्थिक सहायता और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए रोडवेज यूनियन ने विरोध प्रदर्शन किया था। परिजनों ने देर शाम मांगों पर सहमति के बाद अंबाला कैंट बस स्टैंड से आत्महत्या कर ली।

रोडवेज यूनियन ने विरोध प्रदर्शन

राजबीर (54), मूलरूप से सोनीपत के गांव नांदनौर से हैं, अब पटेल नगर में हरियाणा रोडवेज में ड्राइवर हैं। उनके तीन बच्चे हैं। जिसमें बड़े बेटे और बेटी शादी कर चुके हैं। अमित, उनके बड़े बेटे, बैंक में काम करता है। दिवाली की रात को अंबाला कैंट बस स्टैंड के पार्किंग में चालक राजबीर थे। जहां एक कहासुनी हुई तो कार सवार युवकों ने उन पर हमला किया। राजबीर की गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे चंडीगढ़ भेजा गया। जहां वे मर गए थे रात को ही परिजनों ने उनका शव लेकर सोनीपत पहुंच गया था। वीरवार को पटेल नगर में उनका अंतिम संस्कार शमशान घाट में हुआ। उनके बड़े बेटे अमित ने उनके शरीर को मुखाग्नि दी।

प्रदर्शन और आत्महत्या: रोडवेज यूनियन की मांगों का संघर्ष और चालक के परिजनों का आत्मसमर्पण:-

वीरवार को उनका शव अंतिम संस्कार हो सका। परिजनों और रोडवेज यूनियन ने ग्रुप-सी में नौकरी और 50 लाख रुपये मुआवजा की मांग की थी। इसके विरोध में हरियाणा रोडवेज यूनियन ने मंगलवार रात 12 बजे से राज्य भर में चक्का जाम कर दिया। जिस पर बुधवार शाम को परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा के साथ हुई चर्चा में सहमति हुई थी कि ग्रुप-सी में 15 लाख मुआवजा और मैकेनिकल विभाग में नौकरी दी जाएगी।

यह भी पढ़े :-

      आपदा का दौरा: रविवार को ब्रह्मखाल-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग सुरंग में फंसे चालिस लोग

भूस्खलन की दुर्घटना के बाद बचाव अभियान में तेजी:-

भूस्खलन से टकराया: 40 लोगों की सुरंग में फंसी दुर्घटना, 900 मिमी स्टील पाइपों से बचाव का प्रयास"

Uttarkashi Tunnel Break: 40 लोग टनल में फंस गए. अब 900 MM स्टील पाइपों से निकालने की कोशिश
Uttarkashi Tunnel Break: रविवार तड़के ब्रह्मखाल-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर सिलक्यारा से डंडालगांव के बीच निर्माणाधीन सुरंग में एक दुर्घटना में लगभग चालिस लोग फंसे हैं। बचाव दल मजदूरों को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे:-rashtriyabharatmanisamachar

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer