Search
Close this search box.

राजस्थान चुनाव: भाजपा अध्यक्ष सीपी जोशी का बड़ा दावा, विशेष बातचीत में बोले {23-11-2023}

सीपी जोशी ने कहा कि भाजपा राजस्थान में पूर्ण बहुमत से सरकार बना रही है, विरोधी दलों के साथ चर्चा में खुलकर बताई राजनीतिक रणनीतियाँ :-

Table of Contents

सीपी जोशी

बुधवार को राजस्थान प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा कि भाजपा इस बार चुनावों में पूर्ण बहुमत से सरकार बना रही है। नियम कायम रहेंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चुनावी वादा किया है। हमारी घोषणाएं स्वचालित नहीं होती। कांग्रेस ने चुनाव जीतकर जो वादे किए थे, वे पूरे नहीं किए हैं। अमर उजाला डिजिटल के संपादक जयदीप कर्णिक ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और चित्तौड़गढ़ के सांसद सीपी जोशी से विशेष बातचीत की। इस बातचीत के मुख्य भाग निम्नलिखित हैं:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का दावा है कि रिवाज बदलेगा। क्या आपका विचार है? क्या परंपरा कायम रहेगी या सत्ता बदल जाएगी?

सीपी जोशी: भाजपा आएगी और कांग्रेस जाएगी। राजस्थान की जनता ने इसे निर्धारित कर लिया है। जिनके जनता ने 2018 में कांग्रेस की जीत के वादों को खारिज कर दिया। किसानों का कर्ज क्या माफ किया गया? बेरोजगारी भत्ता क्या दिया गया? महंगाई को क्या रोका गया? महिला हिंसा को रोका गया है?सीपी जोशी: भाजपा आएगी और कांग्रेस जाएगी

कांग्रेस ने कहा था कि पांच साल तक बिजली की लागत नहीं बढ़ेगी, लेकिन क्या हुआ? राजस्थान की जनता ने पांच साल तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को कुर्सी बचाने और भ्रष्टाचार करते देखा है। राजस्थान की जनता ने पहले कभी भ्रष्टाचार का ऐसा दंश नहीं देखा है। भाजपा ने भी इसके लिए संघर्ष किया था। पचास टका दिए बिना कोई काम नहीं होता, इसके कुनबे के लोग खुलकर कह रहे हैं। बहुत से विधायकों और मंत्रियों ने खुलकर इसकी पुष्टि की है।

पेपर लीक में इनकी पार्टी के सदस्य शामिल थे। डॉ. जारोली, सुरेश ढाका की सुरक्षा और सलमान खुर्शीद को वकील बनाने वाले व्यक्ति स्पष्ट रूप से पेपर लीक में शामिल हैं। गोपाल केसावद पैसे लेते हुए गिरफ्तार किया गया था। भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले अधिकारी को इस सरकार ने बर्खास्त कर दिया है।

भाजपा की जीत की वजह क्या पार्टी की प्रतिबद्धता होगी या कांग्रेस सरकार की विफलता?

सीपी जोशी: हम चुनाव में भाग नहीं लेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में कहा था कि हर गरीब को घर मिलेगा। आजादी के बाद से पिछले साढ़े नौ वर्षों में जितने घर नहीं बने हैं, उतने पिछले ६० वर्षों में नहीं बने हैं। 60 साल में गैस कनेक्शन की तुलना में अधिक शौचालय नहीं दिए गए पिछले साढ़े नौ वर्षों में जितने लोगों के खाते नहीं खुले थे, उतना ही काम हुआ है।

गहलोत ने कहा कि किसानों का कर्ज भुगतान किया जाएगा। नहीं करता था। मोदी सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य को लागत का डेढ़ गुना कर दिया। किसान सम्मान निधि का धन दिया गया था। बूंद-बूंद सिंचाई योजना, प्रधानमंत्री सिंचाई योजना, सामने आई। नैनो यूरिया लाया गया था। नीम ने कोटेड यूरिया लाया था। किसानों की भलाई के लिए बहुत कुछ किया गया है।

कांग्रेस ने एक पुरानी पेंशन योजना का वादा किया है। कांग्रेस इस पर अन्य राज्यों में जीत हासिल की है। अब गहलोत कहते हैं कि ओपीएस का लाभ जारी रहेगा अगर भाजपा आएगी।

सीपी जोशी: कांग्रेस की प्रतिज्ञा चुनावी है। चुनाव खत्म होने के बाद क्या होगा? बिजली के हालात क्या हैं? वहाँ ओपीएस है क्या हुआ? 60 वर्षों से प्रदेश और देश में कांग्रेस थी, लेकिन हम उज्जवला लाए। तुम फिर कह रहे हो कि पांच सौ रुपये में सिलेंडर खरीदेंगे। मोदी सरकार भी 300 रुपये दे रही है। आप चुनाव के अंतिम छह महीने में कुछ सिलेंडर देकर दावा कर रहे हैं कि हमने आपकी मदद की। 2018 में काम शुरू करना अच्छा होता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी के दौरान गरीबों को प्रधानमंत्री अन्न धन योजना के तहत अनाज दिया। आज भी भेजें। पांच वर्ष अधिक देंगे। चुनावों में वादे और भ्रष्टाचार मैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अशोक गहलोत के सामने क्यों देखा जाता है? भाजपा में सुंधरा राजे या कोई अन्य व्यक्ति क्यों नहीं है?

सीपी जोशी: ऐसा प्रश्न नहीं होना चाहिए। संसदीय बोर्ड ने दो-तीन वर्ष पहले ही निर्णय लिया था कि भाजपा किसी भी राज्य में चुनाव नहीं लड़ेगी। क्या कर्नाटक, गुजरात या हिमाचल प्रदेश में कोई नेता चुना गया? भाजपा ने आंतरिक लोकतंत्र का उपयोग किया है। पार्टी के विधायकों और संसदीय बोर्ड की राय सर्वोपरि होगी।

भाजपा अक्सर गहलोत और सचिन पायलट के बीच अंतर की चर्चा करती है। अब सुषमा स्वराज और भाजपा का शीर्ष नेतृत्व भी चर्चा में हैं।

सीपी जोशी: भाजपा आएगी और कांग्रेस जाएगी

सीपी जोशी: कौन दूरियां मानता है? वह दूर रहती तो क्या वह भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष होती? होगा? वह दूसरी बार राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बन गए हैं। पार्टी के हर कार्यक्रम में भाग लेती हैं। पार्टी की गतिविधियों में शामिल हैं। राजस्थान की टीम यही है। कांग्रेस का मानना है कि मैं योग्य हूँ। शेष सभी लोग गद्दार और मूर्ख हैं।यदि आप योग्य हैं तो कांग्रेस पार्टी अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद पर क्यों नियुक्त कर रही है? इसकी घोषणा क्यों नहीं की गई?

चुनाव में कई विरोधी हैं। टिकट वितरण को लेकर प्रश्न उठ रहे हैं। कितनी बड़ी चुनौती है यह?

सीपी जोशी: निर्दलीय या बागी प्रत्याशी किसी भी चुनाव में खड़े होते रहे हैं। भाजपा कमल के निशान को जनता चुनती है। पार्टी ने कई जगह प्रयास किए हैं और लोगों ने उनका समर्थन किया है। लोगों का मन इसमें कमल का निशान देखा जा सकता है। भाजपा को राजस्थान में ऐतिहासिक बहुमत मिलेगा, हालांकि मैं गणित नहीं जानता।

सत्ता में आने के बाद आप इस सरकार को कैसे बदलेंगे?

CP Joshi: महिला सुरक्षा, भ्रष्टाचार और तुष्टिकरण हिंदू त्योहारों पर डीजे नहीं बज सकते, लेकिन कुछ समुदायों के त्योहारों को धूमधाम से मनाने की अनुमति है। पताका नहीं लगा सकते। भगवान श्री राम भी नहीं बोल सकते। यह नहीं होगा।

कन्हैयालाल की हत्या एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गई है। कांग्रेस ने कहा कि केंद्र सरकार एनआईए जांच को नहीं बढ़ा रही है।

सीपी जोशी: जो व्यक्ति को धमकी दी गई, उसने पुलिस को सूचना दी। सुरक्षित रहने की मांग की गई। सुरक्षा के लिए बजाय, समझौता हो गया। उन्होंने कहा कि दुकान खोलें। उसे मार डाला गया जैसे ही दुकान खुली। परिवार ने सुरक्षा की मांग की। राजसमंद के दो युवा ने आतंकियों को गिरफ्तार कर पुलिस को सौंप दिया।

दोनों पिछले दो साल से सुरक्षा की मांग कर रहे हैं। जब वह अधिकारियों और मंत्रियों से मिल गया, तो उनसे पूछा गया कि आपने ऐसे क्रूर अपराधियों को क्यों गिरफ्तार किया? किसने आपको इन्हें पकड़ने को कहा? क्या यह उत्तर है? जब दलित व्यक्ति का बेटा मरता है, उसे दो लाख रुपये मिलते हैं। जयपुर में किसी व्यक्ति की मौत पर पचास लाख रुपये मिलते हैं। क्या यह तुष्टिकरण नहीं है? पीएफआई की रैली और रामनवमी के जुलूस पर प्रतिबंध होगा।

सरकारी आदेश से उदयपुर में भगवा पताका लगाने पर प्रतिबंध लगाते हो। करौली में श्रीराम का नारा लगाने वालों पर शिकायत दर्ज की जाती है। जबकि कुछ त्योहारों को बिजली मिलती है, तो दूसरों को नहीं मिलती। निचली अदालत ने जयपुर ब्लास्ट के दोषी को फांसी की सजा सुनाई। आपका एएजी प्रस्तुत नहीं किया गया था। राजस्थान की भ्रष्ट सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कोई वकील नहीं भेजा। आपने राम दरबार, शिव मंदिर और भगवान कृष्ण की क्रीडास्थली भी तोड़ दी है। इससे बचने के लिए संतों को अपने जीवन को समाप्त करना पड़ा।

मध्य प्रदेश चुनाव 2023 - जानिए क्षेत्र की चर्चित सीटें और समीकरण

जातियों के आधार पर विभाजित राजस्थान में भाजपा ने संतों को चुनाव मैदान में क्यों उतारा है?

सीपी जोशी ने कहा कि धर्म में राजनीति नहीं होनी चाहिए लेकिन धर्म में राजनीति बहुत महत्वपूर्ण है। संत आना एक अच्छा संदेश है। बहुत से संत भी लोकसभा में अपने-अपने क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। क्या इसमें बुरा है? राजस्थान में कई संत और पुजारी मारे गए हैं। सरकार भी उनकी सुरक्षा नहीं कर सकी है।

राजस्थान में पानी की समस्या बार-बार बदलती रहती है। यह कैसे सुलझाया जाएगा?

सीपी जोशी: भाजपा सरकार ने मुख्यमंत्री स्वावलंबन कार्यक्रम शुरू किया था। गहलोत सरकार ने इसे रोका। केंद्रीय सरकार का बजट बड़ा था। उसने गांव का पानी गांव में और खेत का पानी खेत में रखने का प्रयास किया। बड़े-बड़े टैंक बनाए गए थे। इसका लाभ यह है पानी का स्तर बढ़ा। मोदी सरकार ने गरीबों के घरों तक पानी पहुंचाने के लिए धन दिया।

जब मन में भ्रष्टाचार होता है, तो कोई योजना घर-घर नहीं जा सकती। क्या यहाँ संसाधन कम हैं? इच्छाशक्ति का अभाव यदि इमानदारी से काम किया जाए तो संसाधन इतने हैं कि आम लोगों को पानी मिल सकता है। आप पानी रोक सकते हैं। जलस्तर को बढ़ा सकते हैं। राजस्थान देश का एक बड़ा राज्य बन सकता है।

यह भी पढ़े:-

गुरमीत सिंह कुन्नर की दुखद निधन: राजस्थान चुनाव में हुआ एक बड़ा क्षति:-

गुरमीत सिंह कुन्नर की दुखद निधन: राजस्थान चुनाव में हुआ एक बड़ा क्षति

कांग्रेस उम्मीदवार और श्रीगंगानगर जिले के करणपुर से विधायक गुरमीत सिंह कुन्नर का दिल्ली एम्स में उपचार के दौरान निधन हो गया। बुधवार सुबह चार बजे कुन्नर ने एम्स में अपनी अंतिम विदाई दी। इसी सप्ताह हुए ब्रेन अटैक के बाद कुन्नर को पहले एसएमएस अस्पताल और फिर एम्स में भर्ती कराया गया।

खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे :-rashtriyabharatmanisamachar

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post