Search
Close this search box.

अयोध्या में स्वागत: राम मंदिर के उद्घाटन के मौके पर, नए एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन की शानदारी {30-12-2023}

अयोध्या: हवाईअड्डे से लेकर रेलवे स्टेशन तक बस राम ही राम, आज प्रधानमंत्री मोदी उद्घाटन करेंगे, उनमें क्या खास है?

अयोध्या में नए एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन का उद्घाटन
अयोध्या में नए एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन का उद्घाटन

राम मंदिर के उद्घाटन की तैयारियां अंतिम पड़ाव पर हैं। इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 30 दिसंबर को अयोध्या पहुंच रहे हैं। यहां निर्मित नवेले एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन का उद्घाटन प्रधानमंत्री करेंगे।

अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण और उद्घाटन लगातार चर्चा में रहते हैं। इस धार्मिक और विश्वव्यापी स्थान पर विकास की नई इबारत लिखने की कोशिश हो रही है। शहर में कई अत्याधुनिक पैमानों पर सुविधाओं का विकास हो रहा है। अयोध्या में एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, बस टर्मिनल और यात्रा को आसान बनाने के लिए कई सुविधाएं बनाई जा रही हैं। आज, 30 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या जाएंगे। इस दौरान प्रधानमंत्री अयोध्या में दो नए रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट का उद्घाटन करेंगे।

अयोध्या के नवनिर्मित एयरपोर्ट की क्या विशेषताएं हैं? यह कितने समय में तैयार हो गया? इसे बनाने में कितना पैसा खर्च हुआ? अब क्या होना है? अयोध्या रेलवे स्टेशन में क्या परिवर्तन हुआ है? उच्चीकरण की लागत क्या है? पर्यटकों और श्रद्धालुओं को उनके आगमन पर क्या सुविधाएं मिलेंगी? आइए जानें..।

दूसरे राज्यों से आने वाले पर्यटकों की आवश्यकताएं

यहां अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनकर तैयार है, जो देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को सेवा देगा। तैयारियों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने देखा है। 30 दिसम्बर प्रधानमंत्री मोदी इसका उद्घाटन करेंगे।

स्टेशन और एयरपोर्ट की लागत का विश्लेषण—

यात्री सुविधा का नाम लागत (रुपये में) कितने समय में बना
मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम इंटरनेशनल एयरपोर्ट लगभग 350 करोड़ करीब नौ साल (2014 में MoU के बाद)
अयोध्या रेलवे स्टेशन ·       पहले चरण में लगभग 240 करोड़ रुपये

·       दूसरे चरण की लागत करीब 480 करोड़ रुपये

करीब चार साल (दूसरे चरण का काम जारी)
अयोध्या इंटर स्टेट बस टर्मिनल (ISBT) करोड़ों रुपये की लागत से कई चरणों में हुआ सौंदर्यीकरण समयसीमा स्पष्ट नहीं

अयोध्या एयरपोर्ट के अलावा 240 करोड़ रुपये की लागत से एक रेलवे स्टेशन और भवन भी बनाया गया है। PM मोदी ने अयोध्या से गुजरने वाली वंदे भारत ट्रेन को भी हरी झंडी दिखाई जाएगी। राम मंदिर की तरह स्टेशन का सौंदर्यीकरण किया गया है। सरकार का दावा है कि एयरपोर्ट और स्टेशन पर उपलब्ध बुनियादी सुविधाओं को अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुसार बनाया गया है। साथ ही, स्टेशनों और एयरपोर्टों में यात्री क्षमता बढ़ाने, सड़कों को चौड़ी करने के प्रयास किए गए हैं।

दूसरे राज्यों से आने वाले यात्रियों के लिए अयोध्या के एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन ISBT (अंतरराज्यीय बस अड्डा) भी सहयोग कर रहा है। इसे कई चरणों में बनाया गया है। अंतरराष्ट्रीय मानकों पर भी बस अड्डे का सौंदर्यीकरण किया गया है। विभिन्न राज्यों से आने वाले पर्यटकों को यहां सभी आवश्यक सुविधाएं मिलेंगी। यात्री सहायता केंद्र, रैन बसेरा और प्रतीक्षालय आदि सुविधाएं बनाई गई हैं जो आवागमन को आसान बनाते हैं। उत्तर प्रदेश रोड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (UPSRTC) के अधिकारियों ने बताया कि आगरा जैसे लोकप्रिय पर्यटक स्थलों से अयोध्या जाने वाले लोगों के लिए विशेष बस सेवाएं भी शुरू की गई हैं। सरकारी और निजी बसों से भी अयोध्या जा सकता है।

अयोध्या में रेलवे यात्रियों को मिलने वाली नई सुविधाएं

अयोध्या में रेलवे यात्रियों को मिलने वाली नई सुविधाएं से निर्मित अयोध्या रेलवे स्टेशन का भवन मंदिर की तरह बना है। इस स्टेशन पर तीन प्लेटफॉर्म हैं, इसलिए सैकड़ों वाहनों के लिए पार्किंग है। 10 हजार वर्गमीटर के स्टेशन परिसर में अत्याधुनिक सुविधाएं बनाई गई हैं, जिसमें रेलवे पुलिस कार्यालय, लिफ्ट, एस्कलेटर, खाद्य प्लाजा, एसी वेटिंग रूम, VIP लाउंज और आवास शामिल हैं।

पूरी तरह वातानुकूलित तीन किलोमीटर का स्टेशन दो चरणों में बनाया जाना है। पहले चरण के बाद, दूसरे चरण में 430 करोड़ रुपये की लागत से एयर कॉनकोर्स बनाया जाएगा। कमल की पंखुड़ियों की तरह छत का डिजाइन होगा। दो और प्लेटफॉर्म स्टेशन के दक्षिण में बनाए जाएंगे। यह टर्मिनल क्षमता लगभग एक लाख यात्री है। राष्ट्रीय राजमार्ग 27 सीधे दक्षिणी टर्मिनल से जुड़ा है।

स्टेशन पर पर्यटक सूचना कार्यालय, महिला और पुरुष रिटायरिंग रुम और सामूहिक शयनकक्ष (डॉरमेट्री) भी बनाए जाएंगे। इन बुनियादी सुविधाओं के अतिरिक्त, अतिरिक्त बुनियादी सुविधाएं भी विकसित की जाएंगी।

अयोध्या अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा की विशेषताएं

यह हवाई अड्डा राम नगरी अयोध्या में कभी केवल 178 एकड़ का क्षेत्र था। अब 821 एकड़ में फैला हुआ एयरपोर्ट अंतर्राष्ट्रीय विमानों के लिए तैयार है। 2200 मीटर का रनवे यहां बनाया गया है। हर घंटे दो या तीन विमान उतरेंगे। विभिन्न विमानों, जैसे बोइंग 737, एयरबस 310 और एयरबस 320, ने भी बोइंग 737, एयरबस 310 और एयरबस 320 जैसे विमान भी इस एयरस्ट्रिप पर सुरक्षित लैंड कर सकेंगे। 30 दिसंबर को पहली फ्लाइट होने के बाद 16 जनवरी से नियमित विमान सेवाएं शुरू होंगी।

15 हजार लोगों की टिन सिटी अयोध्या, कुंभ नगरी प्रयागराज की तरह, पर्यटकों को अनोखा अनुभव देगी। कुंभ में रहने वालों के लिए टिन सिटी बनाई जाएगी। अयोध्या में बंदरों की बहुत अधिक संख्या है। ऐसे में 15 हजार लोगों के लिए एक टिन सिटी बनाने का निर्णय लिया गया है। कपड़े के स्थान पर टेंट टिन से बनाया जाएगा। 50 एकड़ की टिन सिटी में 4500 लोगों के लिए 1500 कमरे भी हैं। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट अयोध्या की टिन सिटी बना रहा है। मणिराम छावनी और कारसेवक पुरम में भी टेंट सिटी बनाई जा रही है। दोनों को मिलाकर लगभग 3,000 लोगों की आवास व्यवस्था होगी।

अयोध्या में पहुंचने पर त्रेता युग की झलकियां दिखाई देंगी.

इसके अलावा, मंदिर तक पहुंचने में कोई संघर्ष न हो, इसका भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। राम, भक्ति, जन्मभूमि और धार्मिक मार्ग को बचाया जा रहा है। अयोध्या एयरपोर्ट पर पैदल चलने वालों के लिए फुटपाथ भी बनाए जा रहे हैं। 2022 में अयोध्या स्टेशन का पहला चरण पूरा होगा। कलाकारों और शिल्पकारों ने भी हर महत्वपूर्ण स्थान पर त्रेता युग की झलकियों को चित्रित किया स्टेशन से एक किलोमीटर पैदल चलकर राम मंदिर पहुँचा जा सकता है।

यह भी पढ़े:-

यशस्वी जायसवाल, श्रेयस अय्यर, और शुभमन के आगमन

टेस्ट में शुभमन vs विहारी
टेस्ट में शुभमन vs विहारी

यशस्वी जायसवाल, श्रेयस अय्यर और शुभमन के आगमन के बाद विहारी, पुजारा और रहाणे को टीम से बाहर कर दिया गया।

पुरा पढ़े 

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer