Search
Close this search box.

जीवित जले दस श्रद्धालु: नूंह में आज बस में आग लगने की वजह, कड़ा, कंगन, कुंडल और कपड़े से पहचाना गया {18-05-2024}

जीवित जले दस श्रद्धालु: नूंह में आज बस में आग लगने की वजह, कड़ा, कंगन, कुंडल और कपड़े से पहचाना गया

जीवित जले दस श्रद्धालु: नूंह में आज बस में आग लगने की वजह, कड़ा, कंगन, कुंडल और कपड़े से पहचाना गया: हरियाणा के नूंह में कुंडली-मानेसर-पलवल (KMP) एक्सप्रेसवे पर एक टूरिस्ट बस में आग लगने से दस लोग मारे गए। 28 से अधिक लोग घायल हुए। वृन्दावन से बस लौट रही थी।

जीवित जले दस श्रद्धालु: नूंह में आज बस में आग लगने की वजह, कड़ा, कंगन, कुंडल और कपड़े से पहचाना गया

शुक्रवार देर रात करीब 1:30 बजे हरियाणा के नूंह में कुंडली मानेसर पलवल एक्सप्रेसवे पर भीषण दुर्घटना हुई। यहां यात्रियों से भरी बस में आग लगी। दस यात्री आग में मारे गए। जबकि २८ लोग झुलस गए सभी को उपचार के लिए अस्पताल भेजा गया है। हादसे में मरने वाले सभी पंजाबी हैं।

बीते शुक्रवार को बस में सवार यात्री एक टूरिस्ट बस किराए पर लेकर बनारस और मथुरा वृंदावन की सैर करने निकले। शुक्रवार रात 10:30 बजे वृंदावन पहुंचकर बस से होशियारपुर वापस निकली। बस में सत्तर लोग सवार हुए। जिनमें बच्चे और महिलाएं भी शामिल थे। यह सब बहुत करीबी रिश्तेदार थे। जो पंजाब के लुधियाना, होशियारपुर और चंडीगढ़ से थे।

वह शुक्रवार से शनिवार की रात दर्शन करने के बाद वापस लौट रहे थे। रात डेढ़ बजे बस में आग लग गई। हादसे से 45 मिनट पहले बस पेट्रोल पंप पर रुकी थी। 30 मिनट तक बस पेट्रोल पंप पर खड़ी रहने पर एसी चल रहा था। शुरूआती जांच से पता चला कि बस में AC में शॉर्ट सर्किट से आग लगी है।

बस चलाते समय स्थानीय लोगों ने आग बुझाने की कोशिश की। कड़ी मेहनत के बाद आग पर नियंत्रण करने के लिए फायर ब्रिगेड मौके पर पहुंची। पीड़ित श्रद्धालु पूनम और सरोज पुंज ने बताया कि वह आगे की सीट पर बैठी हुई थी। उन लोगों ने बस से कूदकर अपनी जान बचाई।

घटनास्थल पर मदद के लिए पहुंचे ग्रामीणों में से साबिर, नसीम, साजिद और एहसान ने बताया कि देर रात करीब एक बजे एक चलती बस में आग की लपटें दिखाई दी। उन्हें आवाज लगाकर बस रुकने को कहा, लेकिन बस नहीं रुकी।

एक युवा ने मोटरसाइकिल पर सवार होकर बस का पीछा कर आग लगने की सूचना दी। फिर बस रुकी, लेकिन आग तब तक बहुत तेज हो चुकी थी। ग्रामीणों ने आग को अपने स्तर पर बुझाने की कोशिश की। बस चालक इस बीच भागते हुए ट्रैफिक थाने में पहुंचा और पुलिस को बताया।

ग्रामीणों की मदद से ट्रैफिक थाना के बीस पुलिस कर्मियों ने खिड़की तोड़-तोड़कर लोगों को बाहर निकाला। कई लोग गंभीर झुलस गए। हादसे में दस लोग मर गए, 28 अस्पताल में भर्ती हुए।

मृतकों को कड़ा, कंगन, कुंडल और कपड़े से पहचाना गया है। मरने वालों में छह शालीमार नगर के निवासी हैं। इनमें से तीन एक परिवार के सदस्य हैं। मरने वालों में गौतम पुत्र राकेश कुमार, अमरावती उषा, शारदा, सुनीता और शशि सुनीला हैं। मृतकों में 12 साल की बच्ची भी योगिता है।

बताया जाता है कि राकेश कुमार पिछले दो दशक से हर साल अपने दोस्तों और मित्रों को धार्मिक यात्रा पर ले जाते हैं। राकेश कुमार की पत्नी और बेटे भी इस हादसे में मर गए हैं।

नूंह बस दुर्घटना के पीड़ितों से कांग्रेस नेता और गुड़गांव (हरियाणा) लोकसभा सीट से उम्मीदवार राज बब्बर ने मुलाकात की। राज बब्बर ने कहा, “बहुत ही दर्दनाक और दुखद घटना है जिसमें कुछ लोग मथुरा-वृंदावन से आ रहे थे और बस में अचानक आग लग गई। जलने से आठ से अधिक लोग मर गए हैं।

यह भी पढ़े:-

हरियाणा में शहरी क्षेत्रों से आगे निकले ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थि

HBSE Exam Result 2024: पंचकुला सबसे ऊपर है, लेकिन नूंह सबसे नीचे है, हरियाणा में शहरी क्षेत्रों से आगे निकले ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थियों का हरियाणा बोर्ड कक्षा 10 का परिणाम 2024: 12 मई को हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ने 10वीं कक्षा का परिणाम जारी किया है। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer