Search
Close this search box.

(INC): जयराम ने कहा कि यह पार्टी का विचार नहीं था, पित्रोदा के ‘विरासत टैक्स’ वाले बयान से कांग्रेस ने पल्ला झाड़ा। {23-04-2024}

(INC): जयराम ने कहा कि यह पार्टी का विचार नहीं था, पित्रोदा के 'विरासत टैक्स' वाले बयान से कांग्रेस ने पल्ला झाड़ा
भारतीय ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा ने विरासत टैक्स को लेकर की गई टिप्पणी से भारत की राजनीति में हलचल मचा दी है। सैम पित्रोदा ने कहा, “अमेरिका में विरासत कर (टैक्स) लगता है। यह नियम मुझे अच्छा लगता है।

(INC): जयराम ने कहा कि यह पार्टी का विचार नहीं था, पित्रोदा के ‘विरासत टैक्स’ वाले बयान से कांग्रेस ने पल्ला झाड़ा

पार्टी ने ही सैम पित्रोदा, एक कांग्रेस नेता, द्वारा भारत में ‘विरासत टैक्स’ लागू करने की मांग वाले बयान से पल्ला झाड़ लिया है। बुधवार को कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि सैम पित्रोदा को खुलकर अपने विचार व्यक्त करने का अधिकार है। लेकिन यह जरूरी नहीं कि पित्रोदा की राय किसी विषय पर कांग्रेस की ओर झुकती हो। अक्सर वे नहीं हैं।

भारतीय ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा ने विरासत टैक्स पर टिप्पणी करते हुए भारत की राजनीति में हलचल पैदा की है। सैम पित्रोदा ने कहा, “अमेरिका में विरासत कर (टैक्स) लगता है। यदि कोई 100 मिलियन डॉलर की संपत्ति है और वह मरने पर उसके बच्चों को केवल ४५ प्रतिशत दे सकता है। 55 प्रतिशत सरकार के पास है। यह नियम दिलचस्प है। यह बताता है कि आपने अपनी पीढ़ी में संपत्ति बनाई थी और अब आप अपनी संपत्ति के मालिक होंगे। यह कहता है कि आपने अपनी पीढ़ी को धन दिया और अब जा रहे हैं, इसलिए जनता को अपना धन छोड़ना चाहिए। किंतु पूरी नहीं, बस आधी। मैं इस निष्पक्ष कानून से सहमत हूँ।’

“वे मेरे और दुनिया में कई लोगों के अच्छे मेंटर, दोस्त और मार्गदर्शक रहे हैं,” जयराम रमेश ने एक्स पर पोस्ट किया। किसी भी मुद्दे पर पित्रोदा स्वतंत्र रूप से अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं। ज़ाहिर है, लोकतंत्र में लोगों को अपने निजी विचारों पर बहस करने का अधिकार है। यह इसका मतलब नहीं कि उनकी राय हमेशा कांग्रेस की राय से मिलती है। कभी-कभी ऐसा नहीं होता। वर्तमान में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी अभियान से ध्यान बंटाने के लिए उनके बयान को सनसनीखेज बनाकर प्रसारित करने का प्रयास किया जा रहा है।”

क्या पूरा बयान पित्रोदा

उन्होंने कहा, ‘हालांकि, आपके पास भारत में ऐसा नहीं है। यदि कोई व्यक्ति 10 अरब रुपये की संपत्ति से मर जाता है, तो उसके बच्चों को 10 अरब रुपये मिलते हैं, लेकिन आम जनता को कुछ नहीं मिलता। इसलिए लोगों को ऐसे मुद्दों पर बहस करनी होगी और उन पर चर्चा करनी होगी। मैं नहीं जानता कि अंततः क्या होगा, लेकिन जब हम धन के पुनर्वितरण की बात करते हैं, तो हम नई नीतियों और कार्यक्रमों के बारे में बात करते हैं जो आम लोगों के हित में काम करेंगे, न कि केवल अमीर लोगों के हित में।’

यह भी पढ़े:-

SSC केस में निर्णय: कलकत्ता हाईकोर्ट ने शिक्षक नियुक्ति को रद्द कर दिया

25753 लोगों की नौकरियों पर संकट वादी पक्ष के वकील ने कहा कि 2016 का पूरा पैनल रद्द कर दिया गया है। डीएम को आदेश दिया है। DRI को चार सप्ताह के अंदर DM को इसकी जानकारी देनी होगी। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer