Search
Close this search box.

चुनाव: भाजपा और कांग्रेस दोनों इस मामले में विभाजित हैं….. {06-04-2024}

चुनाव: भाजपा और कांग्रेस दोनों इस मामले में विभाजित हैं

चुनाव: भाजपा और कांग्रेस दोनों इस मामले में विभाजित हैं..। BJP को आधी सीटों पर भितरघात का खतरा
भाजपा और कांग्रेस दोनों हरियाणा में गुटबाजी में फंसे हुए हैं। भाजपा को आधी सीटों पर भितरघात का खतरा है। स्थानीय नेता और कार्यकर्ता भाजपा के चार नए चेहरों के साथ खुलकर नहीं आ रहे हैं।

चुनाव: भाजपा और कांग्रेस दोनों इस मामले में विभाजित हैं

गुटबाजी के कारण हरियाणा चुनाव में कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों को मैदान में नहीं उतारा है, जबकि भाजपा के उम्मीदवारों को भी कठिनाई हुई है। भाजपा प्रत्याशियों को आधी सीटों पर स्थानीय नेताओं और उनके समर्थकों द्वारा घृणा की आशंका है।

भाजपा नेतृत्व ने इसकी जानकारी हाईकमान को मिलने के बाद एक-दूसरे को शांत करने की कोशिश की है। वास्तव में, भाजपा ने पांच में से दस सीटों पर अपने प्रत्याशी बदल दिए हैं।

सांसद रतन लाल कटारिया की पत्नी बंतो कटारिया को अंबाला में उनके निधन के बाद सहानुभूति के तौर पर मैदान में उतारा गया है। इन छह सीटों पर ही अंदरखाने विरोध या खुले विरोध की आशंका है। भाजपा ने भी एक सर्वे में यह पाया है।

भाजपा के प्रवक्ता रहे सुदेश कटारिया ने कहा कि िभतरघात शब्द कांग्रेस का है और सिर्फ कांग्रेस में इसका प्रयोग होता है। भाजपा एक अनुशासनात्मक पार्टी है। भितरघात का खतरा किसी भी पार्टी या प्रत्याशी को नहीं है।

अशोक तंवर, मौजूदा सांसद सुनीता दुग्गल का टिकट कटने के बाद सिरसा से चुनाव मैदान में हैं। गाँवों में तंवर का विरोध हो रहा है। स्थानीय भाजपा नेताओं ने उन्हें अपना नहीं पाया। एक तो वे दल बदलू कहलाते हैं। दूसरा, वह सिरसा से बहुत समय से दूर हैं।

बंतो से विज के पति रतनलाल कटारिया, जो अंबाला से प्रत्याशी है, और अंबाला कैंट से विधायक अनिल विज, दोनों के बीच छत्तीस का आंकड़ा रहा है। हाल ही में अनिल विज ने नई सरकार में मंत्री पद का दावा कर दिया है। वह भी संगठन की बैठकों से दूर रहे हैं और केवल अपने खुद के हलके में रहे हैं। वे मुख्यमंत्री की रैली में भी नहीं गए।

रणजीत चौटाला को हिसार से प्रत्याशी बनाया गया है क्योंकि वह ताऊ देवीलाल के बेटा और मनोहर लाल का विश्वासपात्र है। लेकिन इसी सीट पर भितरघात का सबसे अधिक खतरा है। भाजपा नेता कैप्टन अभिमन्यु और कुलदीप बिश्नोई से संपर्क करना उनके लिए मुश्किल है। बिश्नोई के बेटे विधायक ने भी सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी व्यक्त की है कि उन्हें भव्य हिसार से टिकट नहीं मिला है। रणजीत कार्यक्रमों में गोपाल कांडा और कैप्टन अभिमन्यु भी नहीं होंगे।

कुरुक्षेत्र की महाभारत भाजपा ने नवीन जिंदल को कुरुक्षेत्र से बाहर निकाला है। दस साल से कुरुक्षेत्र से अलग होने और भाजपा में नए होने के कारण उनके सामने कई चुनौतियां हैं। प्रमुख नेता जैसे डीडी शर्मा, पूर्व विधायक पवन सैनी और पूर्व सांसद कैलाशों सैनी को एक साथ नहीं देखा जा रहा है।

यह भी पढ़े:-

घोषणा: पंजाब के पूर्व सीएम चन्नी का हाथ प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा चूक में था

घोषणा: पंजाब के पूर्व सीएम चन्नी का हाथ प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा चूक में था..। भाजपा नेता रवनीत बिट्टू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांच फरवरी 2022 को फिरोजपुर में एक रैली करने आ रहे हैं। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer