Search
Close this search box.

2024 लोकसभा चुनाव: रेवाड़ी के जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा ने कहा कि इस मोबाइल ऐप {30-03-2024}

2024 लोकसभा चुनाव: रेवाड़ी के जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा ने कहा कि इस मोबाइल ऐप

2024 लोकसभा चुनाव: रेवाड़ी के जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा ने कहा कि इस मोबाइल ऐप और वेबसाइट का पहली बार चुनाव में उपयोग किया जा रहा है, नेत्रहीन मतदाताओं के लिए स्लिप ब्रेल लिपि में जारी किया जाएगा। मतदाता को वोट डालने के लिए अधिक समय इंतजार नहीं करना पड़ेगा, जो इसका सबसे बड़ा लाभ है।

2024 लोकसभा चुनाव: रेवाड़ी के जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा ने कहा कि इस मोबाइल ऐप

एनआईसी हरियाणा ने इस बार 18वें लोकसभा आम चुनाव के मद्देनजर एक विशिष्ट मोबाइल ऐप और वेबसाइट बनाया है। इसका प्रयोग कर मतदाता पोलिंग बूथ पर मतदाताओं की लाइन का पता लगा सकता है और अपनी सुविधानुसार वोट डालने के लिए बूथ पर जा सकता है।

NCIC ने हरियाणा राज्य चुनाव आयोग का एप स्वीकृत कर दिया है, डीसी और जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा ने बताया। वोटर्स-इन-क्यू नामक एप बनाया गया है। ईक्यूएमएसएचआरवाई डाट एनआईसी डाट इन नामक वेबसाइट भी इस ऐप के लिए बनाई गई है। फिलहाल, हरियाणा के लगभग 50 विधानसभा क्षेत्रों में ही इस वोटर्स ऐप का उपयोग किया जा सकता है।

भारत निर्वाचन आयोग ने भी इस मोबाइल ऐप को उपयोग के लिए मान्यता दी है, उन्होंने बताया। उन्होंने कहा कि मतदाता को मोबाइल एप पर अपना एरिया, पोलिंग बूथ और वोटर का नाम डालने पर एक ओटीपी मिलेगा।उन्हें बताया गया कि मतदाता मोबाइल एप पर अपना एरिया, पोलिंग बूथ और वोटर का नाम डालने पर एक ओटीपी पाएगा, जिसका उपयोग कर वह बूथ पर सीधे बीएलओ से संपर्क कर सकेगा। BLO हर एक घंटा या आधे घंटे बाद एप पर वोट डालने के लिए कितने लोगों की संख्या बताएगा।

जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा ने बताया कि वोटर्स-इन-क्यू ऐप को रेवाड़ी सहित कई क्षेत्रों में शुरू किया गया है. उन्होंने कहा कि यह मोबाइल ऐप और वेबसाइट पहली बार चुनावों में उपयोग किया जा रहा है। इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि मतदाता को भीड़ कम होते ही वोट डालने के लिए जा सकता है और अधिक समय इंतजार नहीं करना पड़ेगा। भविष्य में, अगर यह प्रक्रिया सफल रही तो सभी विधानसभा क्षेत्रों में भी इसे लागू किया जा सकता है। हाल ही में गुरूग्राम, रोहतक, बहादुरगढ़, कैथल, झज्जर, रेवाड़ी, नारनौल, नूंह, पलवल, फरीदाबाद, बडख़ल, पंचकूला, अंबाला कैंट, अंबाला शहर, यमुनानगर, थानेसर, करनाल, पानीपत और सोनीपत हलका में वोटर्स-इन-क्यू ऐप को प्रारंभिक ट्रायल के रूप में शुरू किया गया है।

निर्वाचन आयोग नेत्रहीन दिव्यांग मतदाताओं के लिए एपिक कार्ड और फोटो वोटर स्लिप ब्रेल लिपि में छपवाई जाएगी, साथ ही ब्रेल बैलेट पेपर और ईवीएम पर स्लिप भी छपवाई जाएगी। उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा ने बताया कि दिव्यांग मतदाताओं को परिवहन की सुविधा, मतदान केंद्रों में रैम्प और व्हीलचेयर की व्यवस्था की जा रही है।

उनका कहना था कि दिव्यांग मतदाताओं को मतदान केंद्र तक लाने और वापस घर जाने के लिए वाहन उपलब्ध कराया जाएगा. यदि वे चलने में असमर्थ हैं, तो उनके पास व्हीलचेयर भी होंगे। प्रत्येक मतदान केंद्र पर रैम्प भी होंगे। इसके अलावा, एनसीसी, एनएसएस और रेड क्रॉस वॉलंटियर्स को उनकी मदद करने की व्यवस्था की जाएगी।

उनका कहना था कि नेत्रहीन दिव्यांग मतदाता और असक्त दिव्यांग मतदाता जो वोट डालने के लिए मशीन का बटन दबाने में असमर्थ हैं, वे वोट डालने के लिए अपने सहयोगी को ले जा सकते हैं। सहयोगी 18 वर्ष से अधिक होना चाहिए। उनका कहना था कि दिव्यांग मतदाता जो स्वयं ईवीएम बटन दबा सकते हैं, उनके साथ आने वाले सहयोगी दिव्यांग मतदाता को वोटिंग कक्ष में ले जा सकते हैं, लेकिन सहयोगी मतदान कक्ष में नहीं जा सकते।

यह भी पढ़े:-

OPS: ओल्ड पेंशन स्कीम से हरियाणा की राजनीति में उबाल आ जाएगा, भाजपा ने छोड़ दिया, कांग्रेस को वापस लाने का वादा

हरियाणा में लगभग 2.70 लाख सरकारी कर्मचारी कार्यरत हैं। एक कर्मचारी के पास माता-पिता, पत्नी और दो बच्चों के हिसाब से आश्रितों की संख्या लगभग 13.50 लाख है। यह एक बड़ा वर्ग है, इसलिए कोई भी दल उनसे नाराज नहीं होना चाहेगा। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer