Search
Close this search box.

सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद पहला लोकसभा चुनाव बिरादरी के हित में होगा {29 march}

सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद पहला लोकसभा चुनाव बिरादरी के हित में होगा

up: कितनी देर तक यादवों की एकता रहेगी..। सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद पहला लोकसभा चुनाव बिरादरी के हित में होगा। मुलायम की पीढ़ी के बहुत से यादव नेता आज नहीं हैं। कुछ लोग सपा छोड़ चुके हैं, तो कुछ लोग साथ रहते हुए भी राजनीतिक गुमनामी में हैं। साथ ही, सपा की निरंतर हार से निराश एक बड़ा हिस्सा यादव वोटबैंक में है। नवीन ठौर की खोज में है।

सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद पहला लोकसभा चुनाव बिरादरी के हित में होगा

भाजपा ने ऐसे यादव नेताओं को अपने पक्ष में लाने का अभियान चलाया है। यही कारण है कि इस लोकसभा चुनाव में यादव मतदाताओं का रुख क्या होगा? चंद्रभान यादव की रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रदेश के सियासी इतिहास में यादव वोटबैंक पहले कांग्रेस और फिर जनसंघ के साथ था। फिर चौधरी चरण सिंह से मिल गया। इसके बाद वोटबैंक मुलायम सिंह यादव का आधार बन गया। राजनीतिक रणनीतिकार मुलायम सिंह यादव ने हर जिले में अपने आधार वोट बैंक का एक बड़ा नेता बनाया।

उन्होंने आधार वोटबैंक को बचाने के अलावा और भी काम शुरू किए। मुसलमानों को पहले जोड़ा। एम-वाई (मुस्लिम-यादव) गठजोड़ से समाजवादी पार्टी ने राजनीति में प्रवेश किया। मुलायम यहीं रुके नहीं। उन्होंने अन्य पिछड़ी जातियों को भी शामिल किया। लेकिन आम जनता के नेताओं को नहीं भुलाया गया। इस रणनीति के माध्यम से वह सत्ता में बने रहे या एक मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाई।

2001 की सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट के अनुसार, प्रदेश में पिछड़े वर्ग में करीब 19.40 प्रतिशत यादव लोग रहते हैं। सत्ता के समीकरणों को साधने के लिए इनकी एकजुटता मजबूत जमीन की तरह है। लेकिन चुनावी नतीजे खुद बताते हैं कि परिस्थितियां बदल गई हैं।

10 अक्तूबर 2022 को, विधानसभा चुनाव के बाद मुलायम सिंह यादव का निधन हो गया। भाजपा ने मुलायम सिंह को पद्मविभूषण से सम्मानित किया, जबकि उत्तर प्रदेश से आने वाले मोहन यादव को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया, यादव वोट बैंक को साधने और पैठ बढ़ाने के लिए। मोहन यादव तीन बार उत्तर प्रदेश आ चुके हैं।

उस समय उन्होंने खुद को आजमगढ़ का निवासी बताया। उन्हें सुल्तानपुर में ससुराल होना भी बताया गया। 4 मार्च को वे तीसरी बार अयोध्या पहुंचे और कहा कि सैफई परिवार ने पूरे यादव समाज को पीटा है। यह सब अनायास नहीं है; इसके राजनीतिक अर्थ हैं। भाजपा को पता है कि यादव वोटबैंक को तोड़ कर ही वह पचास प्रतिशत से अधिक वोट पा सकती है। यही कारण है कि वह येनकेन प्रकारेण के पक्ष में इस वोटबैंक को लाने में लगी हुई है।

यादव समाज अब सपा से जुड़े रहना नहीं चाहता। यह भी दिखता है। मोहम्मदाबाद क्षेत्र फर्रुखाबाद जिले में यादवों की राजधानी है। पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह यादव, जो दो पीढ़ियों से सपा की राजनीति कर रहे हैं, अब भाजपा में हैं। उस क्षेत्र में कारोबारी राजेश यादव का कहना है कि नेताजी ने हम सभी पर एहसान किया था। वे अब नहीं हैं। जहां हमें लाभ होगा, वहां जाएंगे।

कन्नौज के सीपी यादव भी कुछ ऐसा ही कहते हैं। वे कहते हैं कि हम सपा का झंडा हमेशा उठाते रहे हैं, लेकिन आज सोच बदल रही है। मध्य यूपी के बाहर भी विचार बदलने की बात करने वाले हैं। यही नहीं, मल्हनी विधानसभा क्षेत्र के अवधेश नारायण यादव (यादव बहुल जौनपुर) भी सोच बदलने का दावा करते हैं। यही कारण है कि सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि विचार बदलने वाले आखिर किस दिशा में जाएंगे?
यादव महासभा में टूट गया

मुलायम सिंह यादव कई दशक से अखिल भारतीय यादव महासभा के साथ रहे, लेकिन उनके निधन के बाद महासभा दो हिस्सों में विभाजित हो गई। एक समूह सपा के साथ है, जबकि दूसरा भाजपा के साथ है। महासभा अध्यक्ष पद से पिछले दिनों इस्तीफा देने वाले राज्यसभा सदस्य उदय प्रताप सिंह अब बुजुर्ग हो गए हैं। फरवरी में, यादव महासभा के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की, जिसमें उन्होंने अहीर रेजीमेंट की मांग पर उनका समर्थन मांगा। श्याम सिंह यादव, यादव महासभा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष, जौनपुर से बसपा के सांसद हैं, लेकिन उन्होंने पिछले दिनों कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल होकर कांग्रेस के साथ हैं।

यादव बहुल प्रमुख लोकसभा सीटें: प्रदेश के बारह जिलों में 20 प्रतिशत से अधिक यादवों की आबादी है। आजमगढ़, देवरिया, गोरखपुर, बलिया, गाजीपुर, वाराणसी, जौनपुर, बदायूं, मैनपुरी, एटा, इटावा, कन्नौज और फर्रुखाबाद में यादव मतदाताओं की बहुलता है। वहीं दसवीं जिलों में लगभग 15% जनसंख्या रहती है।

• 2022 के विधानसभा चुनावों में 83 प्रतिशत यादवों ने सपा को वोट दिया, जैसा कि सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डवलपिंग सोसाइटीज की चुनावी अध्ययन रिपोर्ट बताती है। लोकनीति-सीएसडीएस की रिपोर्ट के अनुसार 2019 में 60% यादवों ने सपा-बसपा को, 23% ने भाजपा को और 5% ने कांग्रेस को समर्थन दिया।भाजपा इस बार लगभग ३० से ३५ प्रतिशत यादवों का वोट हासिल करने का लक्ष्य रखकर काम कर रही है।

प्रदेश में यादव राजनीति की शुरुआत

1952 में आगरा पूर्वी सीट से कांग्रेस के टिकट पर यादव समाज से पहली बार सांसद चुने गए रघुवीर सिंह यादव।

957 में रामसेवक यादव सोशलिस्ट पार्टी से बाराबंकी से सांसद बने। फिर मुलायम सिंह यादव और राम नरेश यादव निकले। 1967 में उत्तर प्रदेश में गैर-कांग्रेसी सरकार बनने पर मुलायम सिंह कैबिनेट मंत्री बन गए। 1977 में, राम नरेश यादव प्रदेश के पहले यादव मुख्यमंत्री बने। मुलायम सिंह मंडल आंदोलन में उभरे और 1989 में जनता दल से मुख्यमंत्री बने। मुलायम सिंह यादव ने तीन बार मुख्यमंत्री पद हासिल किया, जबकि अखिलेश यादव ने सिर्फ एक बार चुनाव जीता। पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह यादव, पूर्व सांसद सुखराम सिंह यादव, पूर्व देवेंद्र सिंह यादव, पूर्व सभापति रमेश यादव और पूर्व विधायक हरिओम यादव अब भाजपा में हैं, जो मुलायम सिंह यादव के साथ सहयोगी रहे हैं। अपनी पार्टी बना चुके हैं पूर्व सांसद डीपी यादव।

SP नेतृत्व को समझना होगा कि यादव वोटबैंक उसका आधार है। यदि यह खिसका तो अन्य जातियों के प्रति इसकी रुचि भी कम होगी। योगी वोटबैंक को नियंत्रित करने के लिए जो प्रयास होने चाहिए थे, वे नहीं हुए। यही कारण है कि इस वोटबैंक में बेचैनी बढ़ती जा रही है। – अखिल भारतीय यादव महासभा के प्रमुख महासचिव प्रमोद चौधरी

मुलायम सिंह यादव ने पूरी तरह से सम्मान किया। इसलिए यादव मतदाता उनके साथ थे। वर्तमान परिस्थितियों में, सपा अब यादवों के हक और सम्मान की बात नहीं करती। लंबे समय से सत्ता से दूर रहने से यादवों में निराशा है। यही कारण है कि धार्मिक वोटबैंक नई जगह खोजने लगा है। – महेंद्र सिंह यादव, हाईकोर्ट के अधिवक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता

कोई भी यादव प्रधानमंत्री पद का दावेदार इस चुनाव में नहीं है। यही कारण है कि यादव समाज के सदस्य पहले अपनी बिरादरी के विजयी उम्मीदवार को वोट देंगे। यदि सजातीय उम्मीदवार नहीं होता, तो समाज की भावना को समझने वाले व्यक्ति को वोट दिया जाएगा। आबादी का सम्मान और भागीदारी चाहिए। भाजपा में यादव समाज के लोग वोट दे रहे हैं, लेकिन भाजपा ने अभी तक सिर्फ एक सीट पर एक यादव उम्मीदवार को उतारा है, जो उनकी निराशा का कारण है। – अरुण यादव, अखिल भारतीय यादव महासभा का कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष

यह भी पढ़े:-

चुनाव 2024: भाजपा ने सुशील मोदी, अश्विनी चौबे और शाहनवाज हुसैन को निपटा दिया!

चुनाव 2024: भाजपा ने सुशील मोदी, अश्विनी चौबे और शाहनवाज हुसैन को निपटा दिया! Lok Sabha का प्रभाव, भरोसा बढ़ा या गिरा: बिहार की राजनीति में प्रसिद्ध सुशील कुमार मोदी ने भाजपा के मार्गदर्शक मंडल में शामिल हो गया। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post