Search
Close this search box.

मेरठ में एक दर्दनाक घटना हुई, जिसमें चार्जिंग पर लगा मोबाइल फटा, एक तेज धमाके से कमरे में आग लगी, चार बच्चों की मौत और पति-पत्नी घायल {24-03-2024}

मेरठ में एक दर्दनाक घटना हुई, जिसमें चार्जिंग पर लगा मोबाइल फटा, एक तेज धमाके से कमरे में आग लगी, चार बच्चों की मौत और पति-पत्नी घायल

मेरठ में एक दर्दनाक घटना हुई, जिसमें चार्जिंग पर लगा मोबाइल फटा, एक तेज धमाके से कमरे में आग लगी, चार बच्चों की मौत और पति-पत्नी घायल हो गए। एक घर में एक शॉर्ट सर्किट से चार्जिंग पर मोबाइल फट गया। वहाँ एक तेज धमाका हुआ और कमरे में आग लग गई। दंपती की हालत गंभीर है, जबकि चार बच्चे आग में झुलसे।

मेरठ में एक दर्दनाक घटना हुई, जिसमें चार्जिंग पर लगा मोबाइल फटा, एक तेज धमाके से कमरे में आग लगी, चार बच्चों की मौत और पति-पत्नी घायल

मेरठ की मोदीपुरम जनता कॉलोनी में एक किराए के घर में रह रहे एक कर्मचारी के घर में शॉर्ट सर्किट से मोबाइल में धमाका हुआ, जिससे कमरे में आग लग गई। चार बच्चे बुरी तरह झुलस गए। बच्चों को बचाने पहुंचे पति-पत्नी भी झुलस गए। लोगों ने पुलिस को बताया और आग पर काबू पाया।पुलिस ने सभी को पहले निजी अस्पताल में भर्ती कराया, फिर मेडिकल में, जहां उपचार के दौरान चारों बच्चों की मौत हो गई। दंपती की स्थिति अभी भी गंभीर है।

बता दें कि चारों बच्चे 24 घंटे में देश छोड़कर चले गए। पिता की हालत गंभीर है, और बच्चों की मां को दिल्ली के एम्स अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती कराया गया है। वह एक चिकित्सक है।

मुजफ्फरनगर जिले के सिखेड़ा में रहने वाले जॉनी (41) एक कर्मचारी है। पत्नी बबीता (37) और चार बच्चों सारिका (10), निहारिका (8), गोलू (6) और कल्लू (5) के साथ मोदीपुरम की जनता कॉलोनी में किराए पर रहते हैं।बताया गया कि बच्चे शनिवार शाम कमरे में खेल रहे थे।बच्चे बिजली के बोर्ड में मोबाइल चार्जर लगा रहे थे और बेड पर तार बिखरे हुए थे। चार्जर लगाने के दौरान एक छोटा सा सर्किट हुआ। तारों में आग लगने से बेड और मोबाइल में धमाका हुआ।

वहीं, आग से घिरे बच्चे चिल्लाने लगे। जॉनी और बबीता रसोई से कमरे की ओर दौड़े जब वे धमाके और बच्चों का शोर सुनते थे। दोनों ने बच्चों को आग से निकाला। बच्चों को बचाने के दौरान जॉनी और बबीता भी बहुत झुलस गए। पड़ोसी जॉनी के घर से चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनकर आए।

थाना प्रभारी मन्नेश कुमार ने बताया कि सारिका और कल्लू उपचार के दौरान भी मर गए हैं। परिजन पहले पोस्टमार्टम करने से इनकार कर रहे थे। दिल्ली के एम्स अस्पताल में मां बबीता को गंभीर हालत में भर्ती कराया गया है, जबकि पिता जॉनी को मेडिकल में उपचार दिया जा रहा है। उसकी स्थिति भी बदतर बनी हुई है।एसपी सिटी आयुष विकरम सिंह ने बताया कि शॉर्ट सर्किट से आग लगी। दंपती और बच्चे बुरी तरह झुलस गए थे। इनमें चारों बच्चे मर गए हैं।

यह भी पढ़े:-

दादरी में नशा करने  वालों पर कार्रवाई: बिहार से अफीम लेकर आया, जिले में कई जगहों पर करना था सप्लाई

दादरी में नशा करने  वालों पर कार्रवाई: बिहार से अफीम लेकर आया, जिले में कई जगहों पर करना था दादरी पुलिस को पता चला कि पंकज नशीला पदार्थ लेकर गांव लांबा कोहलावास बस अड्डा पर खड़ा है। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer