Search
Close this search box.

Lok Sabha चुनाव: परनीत के भाजपा में जाने से बदले समीकरण में बदलाव {16-03-2024}

Lok Sabha चुनाव: परनीत के भाजपा में जाने से बदले समीकरण में बदलाव 

Lok Sabha चुनाव: परनीत के भाजपा में जाने से बदले समीकरण में बदलाव हुआ है, क्योंकि इस सीट पर कांग्रेस ने 17 में से 11 बार जीत हासिल की है, लेकिन परनीत के भाजपा में जाने से कांग्रेस के लिए चुनौती बढ़ गई है। 1952 से अब तक पटियाला लोकसभा सीट पर 17 बार चुनाव हुए हैं, जिसमें कांग्रेस ने सबसे अधिक 11 बार जीत हासिल की है।

Lok Sabha चुनाव: परनीत के भाजपा में जाने से बदले समीकरण में बदलाव

पंजाब की राजनीति का केंद्र रहा पटियाला, पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के कारण आज भी कांग्रेस की राजधानी है, लेकिन कैप्टन की पत्नी व सांसद परनीत कौर के भाजपा में शामिल होने से कांग्रेस के सामने एक और चुनौती आई है। भाजपा बहुत संभावना है कि उन्हें पटियाला से चुनाव में उतारा जाएगा।

इससे इस बार पटियाला सीट से चुनावी समीकरण बदलता दिखता है। यह चुनाव के नतीजों पर कितना असर करेगा, यह तो समय बताएगा, लेकिन एक बात तो स्पष्ट है कि मोती महल से इस बार अलगाव के बाद कांग्रेस को पटियाला को बचाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है।

पहले, कांग्रेस को पटियाला से एक मजबूत उम्मीदवार खोजना महत्वपूर्ण होगा। अब कांग्रेस की जीत पहले की तरह आसानी से नहीं हो सकती क्योंकि कैप्टन का परिवार 1998 से पटियाला सीट का प्रतिनिधित्व कर रहा है। ऐसे में शाही परिवार पटियाला की जनता पर बहुत प्रभाव डालता है।

पटियाला में अपनी पहली जीत हासिल करके, भाजपा परनीत की मदद से कांग्रेस को हराना चाहेगा। भाजपा ने 2024 में 400 पार करने का लक्ष्य रखा है और हर राज्य में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस भी अपने गढ़ को बचाने के लिए हर संभव प्रयास करेगी। आप भी पटियाला में जीत का परचम फहराने के लिए पूरी कोशिश करेंगे।

कांग्रेस ने परनीत को तीन फरवरी 2023 को पार्टी विरोधी कार्यों के आरोप में निलंबित कर दिया था। परनीत कौर ने पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया था क्योंकि वे लोकसभा में नहीं जाएंगे।
वास्तव में, परनीत ने कैप्टन के कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद से पार्टी के कार्यक्रमों से दूरी बना ली थी। परनीत ने भी विधानसभा चुनाव में प्रचार नहीं किया था। वह पंजाब में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में भी शामिल नहीं हुईं।

सीट की उत्पत्ति: 1952 से अब तक पटियाला लोकसभा सीट पर 17 बार चुनाव हुए हैं, जिसमें कांग्रेस ने सबसे अधिक 11 बार जीत हासिल की है। यहां के पहले सांसद कांग्रेसी नहीं थे। इस सीट से चार बार सांसद रह चुकी शाही परिवार से पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की पत्नी परनीत कौर भी हैं।
1999 में वह पटियाला से पहली बार लोकसभा चुनाव जीतीं, फिर 2004, 2009 और 2019 में फिर से चुनी गईं। पटियाला लोकसभा क्षेत्र में नौ विधानसभा क्षेत्र हैं। यहाँ लगभग 1739600 मतदाता हैं, 824919 पुरुष और 914607 महिला।

2019 के लोकसभा चुनाव में इस हल्के से वोटों का प्रतिशत 67.71 प्रतिशत था। 2019 के चुनाव में परनीत ने अकाली दल के सुरजीत सिंह रखड़ा को 162718 वोटों के अंतर से हराया।
79 साल की परनीत कौर, चार बार की सांसद और लोगों में लोकप्रिय नेत्री होने के कारण कांग्रेस में उम्मीदवार की तलाश में हैं। पटियाला हलके के लोगों के दुःख-सुख में वह शामिल रहती है। बेटी जयइंदर कौर पिछले कुछ समय से मां परनीत के साथ सक्रिय रूप से हलके लोगों में जा रही हैं।

ऐसे में कांग्रेस को परनीत की तरह का उम्मीदवार खोजना मुश्किल होगा। कांग्रेस एक मजबूत उम्मीदवार बनाने की कोशिश करेगी जो परनीत को कड़ी टक्कर दे सके।
दावेदारों की सूची में सबसे पहले राहुल गांधी के करीबी पूर्व कैबिनेट मंत्री विजयइंद्र सिंगला का नाम चल रहा है। राजपुरा के पूर्व विधायक हरदियाल सिंह कंबोज और पूर्व मंत्री लाल सिंह भी चर्चा में हैं।

वर्तमान सेहत मंत्री और आम आदमी पार्टी की सत्ताधारी पार्टी डा. बलबीर सिंह पर दांव खेला है।सत्ताधारी आम आदमी पार्टी ने डा. बलबीर सिंह, जो पटियाला देहाती हलके से विधायक हैं, पर दांव खेला है। वर्तमान में आप लोकसभा सीट के अधीन पड़ते सभी विधानसभा हलकों में विधायक हैं। यही कारण है कि पटियाला सीट पर जीत हासिल करके कांग्रेस की बरसों से चली आ रही सत्ता को समाप्त करना उनका लक्ष्य होगा।

किसान आंदोलन का बड़ा प्रभाव होगाकिसान आंदोलन का बड़ा प्रभाव होगा

प्रो. टिवाणा पंजाबी यूनिवर्सिटी से राजनीतिक मामलों में माहिर प्रो. बलविंदर सिंह टिवाणा का कहना है कि परनीत कौर के भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ने से पटियाला सीट पर चुनावी समीकरण निश्चित रूप से बदलेंगे, लेकिन किसान आंदोलन का इस बार काफी असर होगा। क्योंकि इस आंदोलन की अब तक की अधिकांश गतिविधियां पटियाला में हुई हैं। यद्यपि परनीत कौर पटियाला के लोगों में काफी प्रभावी हैं, लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह भी जानते हैं कि अकेले भाजपा की जीत संभव नहीं होगी, इसलिए वह पंजाब में भाजपा और अकाली दल के गठबंधन पर लगातार जोर देते हैं।

यह भी पढ़े:-

Paypal: Paytm पर जानें कि कल पेटीएम और पीपीबीएल की कौन सी सेवाएं उपलब्ध रहेंगी और कौन सी बंद हो जाएंगी

Paypal: Paytm पर जानें कि कल पेटीएम और पीपीबीएल की कौन सी सेवाएं उपलब्ध रहेंगी और कौन सी बंद हो जाएंगी: यह जानना महत्वपूर्ण है कि पेटीएम पेमेंट बैंक और पेटीएम दो अलग-अलग संस्थाएं हैं पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer