Search
Close this search box.

जमीन अधिग्रहण: NHAI टीम जसरा बाईपास बनाने के लिए पहुंची {13-03-2024}

जमीन अधिग्रहण: NHAI टीम जसरा बाईपास बनाने के लिए पहुंची

जमीन अधिग्रहण: NHAI टीम जसरा बाईपास बनाने के लिए पहुंची, लेकिन किसानों ने रोका मात्रा
NHAI के अधिकारी और किसान बुधवार को एकत्रित हुए। किसानों ने उचित मुआवजे को लेकर काम शुरू करने वाले अधिकारियों को काम करने से रोक दिया। उन्होंने कहा कि जिस जमीन पर काम करने की योजना है, उसके काश्तकारों को अभी तक मुआवजा नहीं मिला है।

जमीन अधिग्रहण: NHAI टीम जसरा बाईपास बनाने के लिए पहुंची

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) और जिला प्रशासन की टीम को जसरा बाइपास बनाने के लिए गौहनिया क्षेत्र में काम शुरू करने से किसानों ने रोका। अधिकारी बड़ी संख्या में मजूदरों के साथ जेसीबी जैसे वाहन लेकर आए। यह जानकारी मिलते ही बहुत से किसान आए और कहा कि काम कर रहे जमीन के काश्तकारों को अभी तक मुआवजा नहीं दिया गया है। किसानों का कहना है कि अधिकारी खड़ी फसलों को उजाड़ने में व्यस्त है और अभी फसल की कटाई भी नहीं हुई है।

किसानों का कहना है कि मंगलवार को खटंगिया गांव में अधिकारियों ने कई बीघे फसल को नष्ट करके काम शुरू कर दिया, किसानों और काश्तकारों की मांगों को अनदेखा करते हुए। अधिकारियों और किसानों के बीच हुई बातचीत में इस बात पर सहमति बनी थी कि मुआवजे का निस्तारण होने और फसल की कटाई होने के बाद बाईपास का काम शुरू कराया जाएगा. हालांकि, अधिकारी मनमानी करते रहे।आंदोलन 53 दिन चला था।

कुछ महीने पहले, किसानों ने भूमि अधिग्रहण के लिए उचित मुआवजा न मिलने और उनका उत्पीड़न करने के खिलाफ हिंसक आंदोलन चलाया था। 53 दिन के संघर्ष के बाद, अधिकारियों ने किसानों से मुलाकात कर मुआवजा देने का वादा किया था। भूमि के मूल्य से काफी कम मुआवजा कुछ किसानों को मिला है। किसानों में इससे भी असंतोष है। बहुत से किसानों को अभी तक एक रूपया भी मुआवजे के रूप में नहीं मिला है। जिस जमीन पर बुधवार को हाईवे अधिकारी काम करने आए थे, उस जमीन के काश्तकारों को अभी तक मुआवजा नहीं मिला है।

अधिग्रहण की प्रक्रिया मार्च 2023 से शुरू हुई है

भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया मार्च 2023 से शुरू हुई है। संबंधित जमीन और रकबे का गजट प्रकाशित हुआ था। Jun महीने में, किसानों के नाम के साथ रकबे की खबर प्रमुख अखबारों में प्रकाशित हुई। किसानों ने कोई विरोध नहीं किया, लेकिन सितंबर में वे कम मुआवजे की जानकारी से असंतुष्ट हो गए और 10 सितंबर को किसान नेता केके मिश्रा की अगुआई में जसरा-दौना मंदिर पर किसान पंचायत कर आंदोलन शुरू किया।

मंडलायुक्त विजय विश्वास पंत ने एनएचएआई के अधिकारियों, एडीएम नजूल विशेष भूमि आधिपत्य अधिकारी और किसानों के प्रतिनिधि मंडल के साथ एक बैठक में किसानों का पक्ष सुना।बाद में अधिकारियों को किसानों की समस्या को हल करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का आदेश दिया गया।

किसानों ने मुआवजे से संबंधित आवश्यक कागजात संबंधित अधिकारियों को भेजे। लेकिन अब तक कोई निष्कर्ष नहीं निकला है। किसानों का कहना है कि अमरेहा ग्राम सभा के किसानों को 2015 में रीवा बाईपास के निर्माण में 80 लाख रुपये बीघा मुआवजा दिया गया था। भूमि की कीमत काफी बढ़ी है, लेकिन आठ वर्ष में ३२ लाख बीघा बनाया गया है।

राकेश टिकैत भी जसरा पहुंचे

भारतीय किसान यूनियन टिकैत के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने जसरा बाईपास निर्माण में अधिग्रहित की जा रही भूमि से प्रभावित किसानों के आंदोलन में हिस्सा लिया था। उन्हें आश्वासन दिया गया कि वह किसानों को किसी भी परिस्थिति में अन्याय नहीं होने देंगे। किसानों को युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा। प्रभावित किसानों ने उन्हें सरकार द्वारा उन्हें दिए गए कम मुआवजा वाली भूमि के बारे में पत्र भेजा था

यह भी पढ़े:-

Haryana राज्य: खट्टर ने चुनाव से पहले शाह की रणनीति पर चला 'जाट-गैर जाट' दांव

Haryana राज्य: खट्टर ने चुनाव से पहले शाह की रणनीति पर चला ‘जाट-गैर जाट’ दांव, जो JJP की हार से लाभ उठाएगा भाजपा प्रदेश की राजनीति से जुड़े लोगों का कहना है कि जजपा और भाजपा पिछले वर्ष से ही संघर्ष कर रहे हैं। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post