Search
Close this search box.

सुप्रीम कोर्ट की संविधान बेंच ने कहा कि किसी आपराधिक-दीवानी मामले में दिए गए स्टे ऑर्डर अब छह महीने में नहीं खत्म होंगे {29-02-2024}

SC: छह महीने में स्वयं को रद्द नहीं करना सुप्रीम कोर्ट की संविधान बेंच ने कहा कि किसी आपराधिक-दीवानी मामले में दिए गए स्टे ऑर्डर अब छह महीने में नहीं खत्म होंगे।

स्टे ऑर्डर अब छह महीने में नहीं खत्म होंगे

स्टे ऑर्डर अब छह महीने में नहीं खत्म होंगे

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने स्टे ऑर्डर पर एक महत्वपूर्ण निर्णय दिया है। यही कारण है कि 2018 में सर्वोच्च न्यायालय ने पहले किसी अदालत के स्टे के अंतरिम आदेशों को छह महीने बाद अपने आप रद्द मान लिया गया था, जब तक कि कोई स्पष्ट बढ़ाने का आदेश नहीं था। सुप्रीम कोर्ट ने फिर कहा कि किसी अंतरिम स्टे ऑर्डर को बढ़ाने के लिए हाईकोर्ट या निचली अदालतों को स्पष्ट आदेश देना होगा।

सुप्रीम कोर्ट की संविधान बेंच ने निर्णय दिया कि अब आपराधिक और दीवानी मामलों में किसी कोर्ट द्वारा दिए गए स्टे ऑर्डर अपने आप छह महीने में नहीं खत्म होंगे।

“एशियन रिसर्फेसिंग ऑफ रोड एजेंसी प्राइवेट लिमिटेड” मामले में तीन न्यायाधीशों की पीठ ने निर्णय दिया कि स्टे ऑर्डर खुद-ब-खुद रद्द हो जाएगा. उच्च न्यायालयों सहित अदालतों द्वारा दिए गए स्थगन के अंतरिम आदेश, जब तक कि उन्हें विशेष रूप से बढ़ाया नहीं जाता, खुद-ब-खुद रद्द हो जाएगा। इसका अर्थ है कि छह महीने के बाद कोई मुकदमा या कार्यवाही स्थगित नहीं हो सकती। बाद में शीर्ष अदालत ने स्पष्ट किया कि यदि उसके द्वारा स्थगन आदेश पारित किया गया है तो यह निर्णय लागू नहीं होगा।

यह भी पढ़े:-

 भारतीय नौसेना ने बताया कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के साथ नौसेना ने एक संदेहपूर्ण पाकिस्तानी-ईरानी नागरिक को समुद्री सीमा पर गिरफ्तार किया

भारतीय नौसेना ने बताया कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के साथ नौसेना ने एक संदेहपूर्ण पाकिस्तानी-ईरानी नागरिक को समुद्री सीमा पर गिरफ्तार किया, जो लगभग 3300 किलोग्राम प्रतिबंधित मादक पदार्थ ले जा रहा था। पुरा पढ़े

 

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post