Search
Close this search box.

2024 बजट: वित्त मंत्री के संबोधन की बड़ी बातें पढ़ें: सरकार की उपलब्धियों से लेकर विकसित भारत के रोडमैप तक {01-02-2024}

गुरुवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अंतरिम बजट संसद में पेश किया। उस समय, बजट भाषण देते हुए, उन्होंने पिछले दस वर्षों की सरकार की उपलब्धियां गिनाईं और विकसित भारत के लिए सरकार का लक्ष्य भी बताया। हम उनके भाषण की महत्वपूर्ण बातें जानेंगे..।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अंतरिम बजट संसद में पेश किया
केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अंतरिम बजट संसद में पेश किया

दस वर्ष में अर्थव्यवस्था में काफी विकास हुआ है, उन्होंने कहा, हम लोगों तक जन कल्याणकारी योजनाओं और विकास के माध्यम से पहुंचे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में इसमें सुधार हुआ है।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अंतरिम बजट संसद में पेश किया

प्रधानमंत्री बनने पर कई चुनौतियां सामने आईं। सरकार ने सबका विकास के मंत्र के साथ इन मुश्किलों का सामना किया। विकास और जनकल्याणकारी योजनाओं से हम लोगों तक पहुंचे। देश को नए लक्ष्य और उम्मीदें मिली। फिर से जनता ने सरकार को बड़े जनादेश से चुना।

हमने दोहरी चुनौतियों को स्वीकार किया और सबका साथ, विकास और भरोसा के मंत्र के साथ काम किया। हमने भौगोलिक और सामाजिक समावेश पर काम किया। हमने “सबका प्रयास” मंत्र का पालन करते हुए कोरोना वायरस का दौर पार किया और अमृतकाल में प्रवेश किया। इसके परिणामस्वरूप, हमारा देश आज बहुत उम्मीदें और आकांक्षाएं रखता है।

80 करोड़ लोगों को फ्री खाना मिल गया

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि पिछले दस वर्षों में हमने सभी के लिए आवास, हर घर जल और सभी के लिए बैंक खाते को रिकॉर्ड समय में पूरा किया है। 80 करोड़ लोगों को फ्री राशन मिला। अन्नदाताओं की उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ा गया। संसाधनों का वितरण पारदर्शी था। ताकि सामाजिक परिवर्तन हो सके, हमने असमानता दूर करने का प्रयास किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा ध्यान चार जातियों पर है: गरीब, महिलाएं, युवा और अन्नदाता। हम उनकी जरूरतें और आकांक्षाओं का सम्मान करते हैं।

25 करोड़ लोगों को विविध तरह की गरीबी से बचाया, उन्होंने कहा कि हम इस मंत्र के साथ गरीबों का कल्याण और देश का कल्याण कर रहे हैं। हमने “सबका साथ” के उद्देश्य से बीस करोड़ लोगों को विविध तरह की गरीबी से बचाया है। 2047 तक भारत को विकसित देश बनाने का लक्ष्य है।

वित्त मंत्री ने कहा कि लोग अच्छे से रह रहे हैं और अच्छी आमदनी कर रहे हैं क्योंकि बड़ी योजनाओं को प्रभावी तरीके से और ससमय पूरा किया जा रहा है। बड़ी योजनाओं को ससमय और प्रभावी ढंग से पूरा किया जा रहा है। जीएसटी ने देश, बाजार और कर की धारणा को मजबूत किया है। गिफ्टी आईएफएससी ने विश्वव्यापी वित्तीय निवेश की राह बनाई है।

अमृतकाल के लिए सरकार ऐसी आर्थिक नीतियों को अपनाएं जो टिकाऊ विकास, सभी के लिए अवसरों और क्षमता के विकास पर केंद्रित रहेंगी। हम रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म से अगला सुधार शुरू करेंगे। नई नीतियों द्वारा समय पर आर्थिक मदद, संबंधित प्रौद्योगिकी और छोटे और मध्यम उद्यमों (MSME) को सशक्त बनाया जाएगा। ऊर्जा सुरक्षा पर भी काम होगा।

नई तकनीक कारोबार में मदद कर रही है। लालबहादुर शास्त्री ने जय जवान, जय किसान कहा था। अटलजी ने युवा, किसान और विज्ञान की जय बोली। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे बढ़ाते हुए जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान कहा। विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र में रुचि रखने वालों के लिए यह एक अच्छा समय है। एक लाख करोड़ रुपये का कोष ब्याज मुक्त या कम ब्याज दर पर दिया जाएगा। इससे दीर्घकालिक आर्थिक लाभ मिलेगा। इससे निजी क्षेत्र लाभान्वित होगा।

ऊर्जा, खनिज और सीमेंट के लिए तीन रेलवे कॉरिडोर बनाए जाएंगे। इनकी पीएम गति शक्ति से पहचान की गई है। इससे सामान आसान होगा और खर्च कम होगा। डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर विकास दर को बढ़ा देगा। 40 हजार आम बोगियों को बनाया जाएगा, जो यात्रियों की सुरक्षा और सुविधा को बढ़ाकर वंदे भारत के मानकों के अनुरूप होंगे।

आज देश में 149 विमानतल हैं। टियर-2 और टियर-3 शहरों को विस्तार दिया जा रहा है। देश की विमानन कंपनियां 1000 नए विमान खरीद रही हैं।

यह भी पढ़े:-

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के बजट सत्र की शुरुआत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के बजट सत्र की शुरुआत से पहले विपक्षी दलों पर हमला बोला। पीएम मोदी ने संसद में हंगामा और शोरगुल को ‘आदतन हुड़दंग’ बताते हुए ऐसा करने वालों को पश्चाताप की नसीहत भी दी। उन्होंने संसद में व्यावहारिक बहस की भी अपील की। पुरा पढ़े

 

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post