Search
Close this search box.

अदाणी-हिंडनबर्ग मामला: सुप्रीम कोर्ट का ऐलान और निर्णय {03-01-2024}

हिंडनबर्ग रिसर्च के आरोपों पर सुप्रीम कोर्ट का इनकार

Adani-Hindenburg Case Supreme Court Decision adani hindenburg case supreme court decision updates
अदाणी -हिंडनबर्ग केस – फोटो : Social Media

अदाणी -हिंडनबर्ग मामला: सुप्रीम कोर्ट ने सेबी की जांच में दखल देने से इनकार करते हुए कहा कि नियामक Adani-Hindenburg मामले में जांच तीन महीने में पूरी होनी चाहिए। हिंडनबर्ग रिसर्च के आरोपों पर सेबी की जांच में दखल देने से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है। सेबी को तीन महीने की अवधि में जांच पूरी करने का आदेश दिया गया है। अदाणी समूह के शेयरों में बुधवार को शुरुआती कारोबार में 10% तक की तेजी दिखी, इससे पहले हिंडनबर्ग मामले में सुप्रीम कोर्ट से अनुकूल फैसला आने की उम्मीद में।

हिंडनबर्ग रिसर्च के आरोपों पर सेबी की जांच में दखल देने से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है। हिंडनबर्ग रिसर्च के आरोपों से जुड़े मामले में तीन जजों की बेंच ने फैसला सुनाया है। सेबी को अदालत ने22 मामलों की जांच सौंपी थी, दो मामलों की जांच अभी भी जारी है। न्यायालय ने सेबी को लंबित जांच को तीन महीने में समाप्त करने का आदेश दिया है।शीर्ष अदालत ने बुधवार को कहा कि यह साबित करने का कोई आधार नहीं है कि सेबी ने ढिलाई बरती अदाणी समूह को बड़ी राहत दी है.

उच्चतम न्यायालय ने कहा कि हिंडनबर्ग की रिपोर्ट या ऐसी कोई भी बात अलग से जांच के आदेश का आधार नहीं बन सकती। अदालत ने कहा कि सेबी कानून के अनुसार जांच करेगा और आगे बढ़ेगा। शीर्ष अदालत ने कहा कि यह साबित करने का कोई आधार नहीं था कि सेबी ने कार्रवाई में देरी की। साथ ही, अदालत ने कहा कि मामले को फिलहाल सीबीआई को सौंपने का कोई आधार नहीं है। फैसले में कहा गया है कि सरकार और सेबी शॉर्ट-सेलिंग पर हिंडनबर्ग की आरे से लगाए गए कानून के उल्लंघन के आरोपों की जांच करेंगे और कानून के अनुसार इस मामले में कार्रवाई की जाएगी।

फैसला, मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ

यह निर्णय तीन जजों (चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस जेबी पारदीवाला और जस्टिस मनोज मिश्रा) की बेंच ने दिया। प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि सेबी को एफपीआई और एलओडीआर नियमों पर अपने बदलावों को रद्द करने का कोई वैध आधार नहीं था।22 में से 20 मामलों की जांच सेबी ने पूरी की है। हम सॉलिसिटर जनरल के आश्वासन को ध्यान में रखते हुए सेबी को अन्य दो मामलों में तीन महीने के भीतर जांच पूरी करने का निर्देश देते हैं।

ठीक फैसला आने की उम्मीद में अदाणी समूह के शेयरों में उछाल

अदाणी समूह के शेयरों में बुधवार को 10% तक की तेजी आई, इससे पहले हिंडनबर्ग मामले में सुप्रीम कोर्ट से सही निर्णय आने की उम्मीद में। 10 शेयरों के समूह में अदाणी एनर्जी सॉल्यूशंस का मूल्य सबसे अधिक 10 प्रतिशत तक चढ़ गया, जबकि अदाणी टोटल गैस का मूल्य 8 प्रतिशत और एनडीटीवी का मूल्य 7 प्रतिशत तक चढ़ गया। अदाणी ग्रीन एनर्जी, विल्मर, कंस्ट्रक्शन और पावर के शेयर 5-6 कीब ढ़त के साथ व्यापार करें। अहमदाबाद स्थित समूह प्रमुख कंपनी अदाणी पोर्ट्स के शेयरों में 3 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।
हिं

डनबर्ग ने दावा किया कि अरबपति गौतम अदाणी ने ‘कॉरपोरेट इतिहास में सबसे बड़ी धोखाधड़ी’ की है। पिछले महीने शीर्ष अदालत ने कई याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि हिंडनबर्ग रिपोर्ट में जो कुछ कहा गया है, उसे पूरी तरह से सही नहीं माना जा सकता।

हड़ताल का आरंभ: ट्रक ड्राइवरों का प्रदर्शन

प्रदर्शन
ड्राइविंग स्ट्राइक – फोटो : सोशल मीडिया

 

Driving Strike: सुरत में प्रदर्शन के दौरान हिंसक ट्रक ड्राइवर, पुलिसकर्मी की पिटाई के आरोप में 23 गिरफ्तार पुलिस अधिकारी ने बताया कि 23 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post