Search
Close this search box.

आठ दिनों तक बजेगा गीता महोत्सव: अंतरराष्ट्रीय गीता सम्मेलन कुरुक्षेत्र में {02-12-2023}

आठ दिनों तक बजेगा गीता महोत्सव:-

आठ दिनों तक बजेगा गीता महोत्सव:

4 कुरुक्षेत्र (हरियाणा) में अंतर्राष्ट्रीय गीता सम्मेलन: कुरुक्षेत्र में पहली बार 17 से 24 दिसंबर तक आठ दिन के अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव का मुख्य कार्यक्रम खास गीता पुस्तक मेला व प्रदर्शनी होगी, जिसमें 600 से अधिक स्टॉल शामिल होंगे। उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ 17 दिसंबर को गीता पूजन और विश्वविद्यालय में सेमिनार का उद्घाटन करेंगे।

सात से 24 दिसंबर तक पवित्र ब्रह्मसरोवर पर अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव होगा। महोत्सव के प्रमुख कार्यक्रम पहली बार पांच दिन की जगह आठ दिन के होंगे। 17 दिसंबर से 24 दिसंबर तक यह कार्यक्रम चलेगा। हरियाणा पवेलियन, जनसंपर्क विभाग की हाईटेक प्रदर्शनी और गीता पुस्तक मेला इस महोत्सव के मुख्य आकर्षण रहेंगे। सरस और क्राफ्ट मेले में 600 से अधिक स्टाल लगेंगे।

नितिश भारद्वाज भगवान श्रीकृष्ण का अभिनय करेंगे:-

नितिश भारद्वाज भगवान श्रीकृष्ण का अभिनय करेंगे:

वहीं महाभारत में भगवान श्रीकृष्ण की भूमिका निभाने वाले नितिश भारद्वाज और फिल्म अभिनेत्री भाग्यश्री सहित कई प्रसिद्ध हस्तियां प्रमुख सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेंगे। शुक्रवार को कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के कार्यालय में अधिकारियों की बैठक हुई, जिसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव की तैयारियों को देखना था। इसमें गीता जयंती महोत्सव में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाया गया। विधायक सुभाष सुधा ने बैठक की अध्यक्षता की।

फिल्म अभिनेत्री भाग्श्री सहित कई प्रसिद्ध हस्तियां महोत्सव में चार चांद लगाएंगे:-

पुरुषोत्तमपुरा बाग में सभी प्रमुख सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे, उन्होंने कहा। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से हरियाणा पवेलियन में वैदिक काल की संगीत यात्रा को दिखाने की कोशिश की जाएगी। रथ के आस-पास के क्षेत्र में सूचना जनसंपर्क विभाग की तरफ से हाईटेक राज्यस्तरीय प्रदर्शनी लगाई जाएगी. उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ 17 दिसंबर को गीता पूजन और विश्वविद्यालय में सेमिनार का उद्घाटन करेंगे।

17 दिसंबर से 24 दिसंबर तक मुख्य कार्यक्रम:-

उन्होंने कहा कि अधिकारियों को अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव से पहले सड़कों का पैच वर्क, रंग रोगन, शहर की सफाई, ट्रैफिक और सुरक्षा प्रणाली, ब्रह्मसरोवर के सौंदर्यीकरण और पर्यटकों के लिए आवश्यक सुविधाओं को समय पर पूरा करने का निर्देश दिया गया है। महोत्सव पहली बार 17 से 24 दिसंबर तक आठ दिन तक चलेगा। सात दिसंबर से भजन संध्या और आरती आकर्षण का केंद्र रहेंगे होगा। 23 दिसंबर को वैश्विक गीता पाठ, दीपावली, तीर्थ सम्मेलन और नगर शोभा यात्रा का आयोजन किया जाएगा।

असम राज्य इस वर्ष गीता महोत्सव में भाग लेगा और राष्ट्रीय ध्वज वाले मैदान में असम पवेलियन लगाएगा। अतिरिक्त उपायुक्त एवं केडीबी के सीईओ अखिल पिलानी, केडीबी के मानद सचिव उपेंद्र सिंघल और 48 कोस तीर्थ निगरानी कमेटी के चेयरमैन मदन मोहन छाबड़ा ने बैठक में महोत्सव की योजनाओं पर चर्चा की। एसडीएम सुरेंद्र पाल, डीएसपी सुभाष चंद्र, एमके मोदगिल, अमरजीत सिंह, डॉ. ऋषिपाल मथाना, अशोक रोशा और केडीबी सदस्य एमके मोदगिल भी बैठक में मौजूद थे।

164 तीर्थों से दो हजार लोग तीर्थ सम्मेलन में भाग लेंगे:-

23 दिसंबर को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव48 कोस के 164 तीर्थों से दो हजार लोगों का सम्मेलन होगा, जिसमें तीर्थों को लेकर मंथन होगा। प्रतिनिधि इन तीर्थस्थलों से मिट्टी और जल भी लाएंगे।

वन-वे ट्रैफिक निर्देश:-

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के दौरान ट्रैफिक को नियंत्रित करने के लिए पुलिस अधिकारी वन-वे ट्रैफिक योजना बनाएंगे। गीता महोत्सव शुरू होने से पहले इस योजना को लागू करने का प्रयास किया जाएगा। साथ ही शहर में भारी वाहनों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया जाएगा।

नितिश भारद्वाज भगवान श्रीकृष्ण का अभिनय करेंगे:

महोत्सव चार क्षेत्रों में सुरक्षित होगा :-

महोत्सव को लेकर पुलिस प्रशासन ने कहा कि यह चार सेक्टरों में होगा और सुरक्षा के लिए दो एसपी और 12 डीएसपी होंगे।27 इंस्पेक्टर और 326 एनजीओ सहित 1628 अधिकारियों और कर्मचारियों की एक डयूटी होगी।

तीन दिसंबर को गीता रन होगा:-

तीन दिसंबर को ब्रह्मसरोवर पुरुषोत्तमपुरा बाग में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में गीता रन का आयोजन किया जाएगा। पुरुषों के लिए 10 किलोमीटर और महिलाओं के लिए पांच किलोमीटर की दौड़ का आयोजन खेल विभाग द्वारा किया जा रहा है। तैयारियां इस मैराथन के लिए लगभग समाप्त हो गई हैं, और विजेताओं को पुरस्कार भी दिए जाएंगे।

यह भी पढ़े:-

पौराणिक कथाओं के अनुसार, आज कार्तिक पूर्णिमा का महत्व और माहत्म्य

Kartik Purnima, 2023: शास्त्रों में कहा गया है कि स्वयं विष्णु ने ब्रह्माजी को, ब्रह्माजी ने नारद मुनि को और नारद मुनि ने महाराज पृथु को कार्तिक पूर्णिमा का महत्व बताया. आज कार्तिक पूर्णिमा है, इसलिए जानिए पूजा विधि, शुभ तिथि और महत्व। पुराणों ने इस महीने की त्रयोदशी, चतुर्दशी और पूर्णिमा को बहुत पुष्करिणी बताया है।

खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे:-rashtriyabharatmanisamachar

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post