Search
Close this search box.

हमास द्वारा 13 इस्राइली कैदियों का मुक्ति प्रदान {26-11-2023}

हमास ने 39 फलस्तीनी कैदियों के मुक्ति हेतु 13 इस्राइली कैदियों को छोड़ा, बदले में भाईचारे का संकेत :-

इस्राइली कैदियों

बंधन से मुक्त होकर अपनों से जुड़ना: 39 फलस्तीनी कैदियों के बदले हमास ने 13 इस्राइली कैदियों को छोड़ दिया, जिनमें से सात विदेशी भी थे; मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, बंधकों की रिहाई में शनिवार को निर्धारित समय से अधिक समय लगा। हमास ने वास्तव में कहा कि इस्राइल युद्ध विराम की शर्तों को तोड़ रहा है। वह उत्तरी गाजा तक मानवीय सहायता के ट्रकों को रोक रहा है।

फिलहाल, इजरायल और हमास के बीच लंबे समय से जारी युद्ध में विराम नहीं है। हाल ही में, मिस्र और कतर के मध्यस्थों ने बताया कि हमास ने 39 फलस्तीनी नागरिकों के बदले 13 इस्राइली नागरिकों को रिहा किया है। सात विदेशी नागरिकों को भी रिहा किया गया है। भी दो दिन पहले रिहाक्रॉस को दी गई है।

इस्राइली बंधक ने अपने परिवार से मुलाकात की :-

24 नवंबर को हमास ने इस्राइली बंधक को गाजा में श्राइडर चिल्ड्रेन मेडिकल सेंटर में अपने परिवार से मिलाया। बंधक महीनों बाद अपने परिवार को देखते ही भावुक हो गए और भागकर उनसे लिपट गए। बंधक महिलाएं और बच्चे हैं।

हमास ने इस्राइली

हमास-इस्राइल युद्ध में मनोरोग दवाओं की मांग में 30% का इजाफा :-

यद्यपि इस्राइल-हमास युद्ध खत्म हो गया है, लेकिन इसके परिणामस्वरूप इस्राइल में मनोरोगी दवाओं की मांग 30% तक बढ़ी है। सीटेक नामक इस्राइली समाचार पत्र ने यह घोषणा की है। मांग बढ़ने की वजह युद्ध के चलते दवाओं की कमी होने की आशंका है। बहुत से मरीजों को मनोचिकित्सक के पास जाना पड़ता है और दो से तीन महीने के लिए दवा लिखने का अनुरोध कर रहे हैं।

इस्राइली फार्मासिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष डेविड पप्पो का कहना है कि मनोरोग दवाओं के प्रिस्क्रिप्शन (नुस्खा लिखने) में इस्राइल में वृद्धि नहीं हुई है, लेकिन मनोरोगियों को डर लगता है कि वे स्टॉक कर रहे हैं। दवाओं की मांग बढ़ी है, जिनमें कम अवसाद, चिंता और स्लीपिंग पिल्स (नींद की दवा) की मांग है।

 

जिनके परिचित घायल हो रहे हैं या मर रहे हैं, उनमें व्याप्त घबराहट :-

राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य परिषद के प्रमुख डॉ. जवी फिशेल ने बताया कि ये दवाएं अवसाद और चिंता को दूर करने के लिए भी काम करती हैं। युद्ध शुरू होने से इस्राइलियों की चिंता बढ़ी है। चिंता के कारण नहीं, मोबाइल पर अंतहीन स्क्रीन समय के कारण भी है। युद्ध में घायल या मर रहे लोग घबरा जाते हैं।

हमास ने इस्राइली

मैंने एक सपना देखा कि हम घर पहुंचे।और सपना सच हुआ:-

चार वर्षीय रज अशर, अपनी मां और छोटी बहन के साथ जेल से रिहा होने के बाद अस्पताल के बिस्तर पर पिता की बाहों में बैठी है। मैंने सपना देखा कि हम घर आ गए, वह पिता योनी से कहती है। हाँ, बच्ची, तुम्हारा सपना सच हो गया, उसके पिता ने कहा। श्नाइडर चिल्ड्रेंस मेडिकल सेंटर ने पिता-पुत्री की ये बातें एक नवीनतम फुटेज में प्रकाशित की हैं। रज, उसकी दो वर्षीय बहन अवीव और मां डोरोन शुक्रवार को इस्राईल-हमास समझौते के पहले दिन रिहा हुए।

यह भी पढ़े:-

“इस्राइली सेना और हमास की लड़ाई: गाजा में अल शिफा अस्पताल का सच:-

नेतन्याहू ने ट्रूडो को बताया कि गाजा का सबसे बड़ा अस्पताल अल शिफा अस्पताल में इस्राइली सेना और हमास की लड़ाई हुई थी। इस्राइली सेना का कहना है कि हमास आतंकियों ने भी अल शिफा अस्पताल के आसपास ठिकाने बनाए हुए हैं।
इस्राइली सेना ने बुधवार को कहा कि गाजा के अल शिफा अस्पताल परिसर में हमास के आतंकियों और इस्राइली सेना के बीच लड़ाई हुई। बयान में कहा गया है कि इस्राइली सेना को अस्पताल में एक आतंकी स्थान की सूचना मिली थी।इस्राइली सेना ने दावा किया: युद्धविराम का कोई इरादा नहीं

इसके बाद कदम उठाया गया। इस्राइली सेना ने बताया कि पूरी कार्रवाई में आम लोगों को कोई नुकसान नहीं हुआ। इस्राइली सेना ने खुफिया सूचना के आधार पर बताया कि मरीजों और आम लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए अस्पताल परिसर में एक रास्ता खुला रखा गया था।

  खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे:-rashtriyabharatmanisamachar

 

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer