Search
Close this search box.

सिल्क्यारा ऑपरेशन: ड्रोनों ने सुरंग को आसान बनाया, उत्तरकाशी सुरंग उद्धार में बॉर्डर रोड की टीम का महत्वपूर्ण योगदान {24-11-2023}

Silkyara Operation: सुरंग में आधुनिक ड्रोन ने आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस से रास्ता दिखाया और अंदर के परिस्थितियों को बताया

Uttarkashi सुरंग उद्धार

 

Uttarkashi सुरंग उद्धार: छह टनलिंग-माइनिंग विशेषज्ञ इंजीनियरों की बंगलूरू की स्क्वाड्रोन इंफ्रा की टीम ने सुरंग में पहुंचकर आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस से भीतर के हालात बताए, जिससे अभियान को अंजाम तक पहुंचाने में काफी मदद मिली।
ऑपरेशन सिलक्यारा की सफलता में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन (BRO) ने बंगलूरू से दो अत्याधुनिक ड्रोन मांगे, जो सुरंग के भीतर मलबे में मार्गदर्शन करते हैं। Uttarkashi

छह टनलिंग-माइनिंग विशेषज्ञ इंजीनियरों की बंगलूरू की स्क्वाड्रोन इंफ्रा की टीम ने सुरंग में पहुंचकर आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस से भीतर के हालात बताए, जिससे अभियान को अंजाम तक पहुंचाने में काफी मदद मिली। BARO के डीडीजी ब्रिगेडियर विशाल वर्मा ने बंगलूरू की स्क्वाड्रोन इंफ्रा एंड माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की मदद की, जो मलबे के भीतर ड्रिल में आ रही थी।

बचाव बलों को मलबे में अड़चनों की सूचना दी :-

कंपनी ने छह माइनिंग इंजीनियर, ड्रोन पायलट और जियोटेक्निकल एक्सपर्ट को अपने दो नवीनतम ड्रोन भेजे हैं। कंपनी के अधिकारी प्रभात ने बताया कि बचाव दल ने सुरंग के भीतर राडार सेंसर और जियोफिजिकल सेंसर लगे ड्रोन की मदद से मलबे में अड़चनों की सूचना दी है। बताया गया है कि ये ड्रोन पूरी तरह से मलबे के भीतर स्कैनिंग कर सकते हैं।

इस तरह ड्रोन काम करता है:-

10 मीटर पहले रुकी ड्रिल में सामने आने वाली सरिये की स्क्वाड्रन ने बचाव दलों को जानकारी दी। ये ड्रोन सिमुलटेनियस लोकेलाइजेशन और मैपिंग (स्लैम) और आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर काम करते हैं। यह तकनीक केवल अंडरग्राउंड और जियोटेक्निकल एप्लीकेशन में लागू होती है। भारतीय वायुसेना की मदद से इससे जुड़े उपकरण सिलक्यारा भेजे गए हैं।

Uttarkashi सुरंग उद्धार

रुड़की से वैज्ञानिकों की टीम ने वाइब्रेशन की जांच की:-

सिलक्यारा सुरंग में लगातार चल रही अमेरिकी ऑगर मशीन की वाइब्रेशन एक खतरा बन गई। NHDCL ने इसके लिए बृहस्पतिवार को विशेषज्ञों की एक टीम को रुड़की से बुला लिया। टीम ने हर घंटे सुरंग के भीतर की वाइब्रेशन रिपोर्ट बचाव दलों को दी।

यह भी पढ़े :-

ब्रह्मसरोवर के पुरूषोत्तमपुरा बाग में ‘असम कला नगर:-

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव

Kurakushetra: पर्यटकों को अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में असम के खानपान और संस्कृति से परिचित करने के लिए ब्रह्मसरोवर के पुरूषोत्तमपुरा बाग में पैवेलियन देखा जाएगा, जिसमें “असम कला नगर” दिखाया जाएगा। पर्यटक इससे सांस्कृतिक धरोहरों को देख सकेंगे। पैवेलियन में असम संस्कृति का रूप देने का एक विशिष्ट प्रयास किया जाएगा।

खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे:-rashtriyabharatmanisamachar

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer