Search
Close this search box.

Maldivas: मालदीव की पर्यटन उद्योग ने पर्यटन क्षेत्र में आई गिरावट पर अपने ही मंत्रियों को घेर लिया {09-01-2024}

मालदीव की पर्यटन उद्योग ने पर्यटन (photo: pti)
मालदीव की पर्यटन उद्योग ने पर्यटन (photo: pti)

 

मालदीव एसोसिएशन ऑफ टूरिज्म इंडस्ट्री ने कहा कि भारत भी मालदीव के पर्यटन उद्योग में निरंतर और महत्वपूर्ण योगदान देता रहा है। एक सहयोगी जिसने कोरोनावायरस महामारी के बाद हमारे सीमाओं को फिर से खोलने की हमारे प्रयासों में भी सहयोग दियामालदीव के कुछ मंत्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ दिए गए आपत्तिजनक बयान को लेकर लगातार बहस चल रही है।

मालदीव की मोहम्मद मुइज्जू की सरकार ने मंत्रियों के बयान से पल्ला झाड़ लिया है, वहीं विपक्ष ने मौजूदा सरकार को भारत विरोधी नीतियों के लिए घेर लिया है। मालदीव के पर्यटन क्षेत्र पर नकारात्मक प्रभाव मालदीव के पर्यटन उद्योग पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने की खबरों के बीच, अब मालदीव के पर्यटन उद्योग ने मुइज्जू सरकार के इन मंत्रियों को घेर लिया है। मालदीव के पर्यटन उद्योग संगठन (MATI) ने भी इस बारे में एक घोषणा की है।

 

पर्यटन उद्योग ने क्या कहा?

मालदीव एसोसिएशन ऑफ टूरिज्म इंडस्ट्री ने एक बयान जारी कर कहा कि सरकार के कुछ उप मंत्रियों ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और देश के लोगों के खिलाफ सोशल मीडिया पर दिए गए आपत्तिजनक बयानों की कड़े शब्दों में निंदा की है। बयान में मालदीव का सबसे करीबी पड़ोसी और साथी भारत है। भारत मालदीव के इतिहास में हर समय हमारे साथ खड़ा रहा है। हम भारत सरकार और वहाँ के लोगों के साथ बनाए गए गहरे संबंधों के लिए शुक्रगुजार हैं।

उसने आगे कहा, “भारत भी मालदीव के पर्यटन उद्योग में निरंतर और महत्वपूर्ण योगदान देने वाला देश रहा है। एक सहयोगी जिसने कोरोनावायरस महामारी के बाद हमारे सीमाओं को फिर से खोलने की हमारे प्रयासों में भी सहयोग दिया तब से अब तक भारत मालदीव के लिए एक महत्वपूर्ण आपूर्तिकर्ता रहा है। हमारी इच्छा है कि दोनों देशों के रिश्ते कई पीढ़ियों तक जीवित रहें। हम दोनों के बेहतरीन रिश्तों पर नकारात्मक प्रभाव डालने वाले विचारों और व्यवहार से बचते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लक्षद्वीप दौरे के बाद से मालदीव देश से बाहर है। उन्होंने सोशल मीडिया पर दावा किया है कि उन्होंने मालदीव में अपनी छुट्टी रद्द कर दी है। टूर ऑपरेटर्स भी बहुत सी छुट्टियां रद्द करने की तैयारी कर रहे हैं। याद रखें कि भारत में छुट्टियां मनाने के लिए मालदीव सबसे लोकप्रिय स्थानों में से एक है।

20 से 25 दिन बाद स्पष्ट असर होगा

इंडियन एसोसिएशन ऑफ टूर ऑपरेटर्स का अनुमान है कि अगले 20 से 25 दिनों के भीतर मालदीव के खिलाफ सोशल मीडिया पर बढ़ रहे विरोध का प्रभाव स्पष्ट हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर कोई पहले से ही हवाई जहाज और होटल बुक कर लेता है उनका कहना है कि वे पहले से ही हवाई जहाज और होटल बुक करने वालों को रद्द नहीं करेंगे। हालाँकि, उन्होंने कहा कि मालदीव से पिछले कुछ दिनों से कोई नई शिकायत नहीं आई है।

टूर कंपनी मेक माई ट्रिप के संस्थापक दीप कालरा ने कहा कि फिलहाल भारतीयों ने मालदीव में अपनी पहले से निर्धारित छुट्टियों को नहीं रद्द किया है। आने वाले कुछ दिनों में सोशल मीडिया पर चल रहे ट्रेंड का असर स्पष्ट हो जाएगा। साथ ही, एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव मेहरा ने कहा कि उम्मीद है कि वे जो हवाई जहाज और होटल के लिए पैसे खर्च कर चुके हैं, वे इन यात्राओं को रद्द नहीं करेंगे। लेकिन नई बुकिंग की उम्मीद नहीं है।

ट्रैवल कंपनी ने मालदीव के लिए टिकट बुकिंग को रद्द कर दिया

प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की लक्षद्वीप यात्रा और मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों के कारण ऑनलाइन टूर कंपनी ईज माई ट्रिप ने मालदीव की सभी उड़ानों को निलंबित कर दिया है। हम देश के साथ खड़े हैं, एक ट्वीट में कंपनी के सह-संस्थापक और सीईओ निशांत पिट्टी ने कहा। लक्षद्वीप की यात्रा करने के लिए हमने अभियान शुरू किया है। लक्षद्वीप का पानी और समुद्री तट मालदीव से भी बेहतर हैं, उन्होंने कहा। लक्षद्वीप की यात्रा को बढ़ावा देने के लिए हम विशिष्ट सौदे प्रस्तुत करेंगे।

भारत मालदीव पर्यटन पर कैसे निर्भर है?

मालदीव में पिछले कुछ वर्षों में भारतीय पर्यटकों की संख्या में काफी वृद्धि हुई है। 2018 में भारत का पर्यटन क्षेत्र में 6.1% हिस्सा था। इस साल भारत से मालदीव जाने वाले पर्यटकों की संख्या पांचवीं सबसे बड़ी थी, 90,474 लोग। 2019 में भारत ने 2018 की तुलना में लगभग दोगुनी संख्या में पर्यटकों को द्वीप देश में भर्ती किया, जो दूसरे देशों में दूसरा सबसे बड़ा आंकड़ा था।

2020 में भारत ने मालदीव के पर्यटन को सबसे बड़ा स्रोत बनाया, जब दुनिया महामारी से गुजर रही थी। इस साल लगभग 63,000 भारतीय मालदीव गए। 2021 और 2022 में 2,91 लाख से अधिक भारतीय पर्यटक मालदीव पहुंचे। भारतीयों की भागीदारी मालदीव के पर्यटन बाजार में 23 प्रतिशत और 14 प्रतिशत रही, जिससे भारत शीर्ष बाजार भी बना रहा। 13 दिसंबर 2023 तक, भारत मालदीव के लिए दूसरा सबसे बड़ा बाजार था, 11.1% बाजार हिस्सेदारी के साथ। 13 दिसंबर तक 1,93,693 भारतीय पर्यटक मालदीव गए थे।

यह भी पढ़े:-

भारत-मालदीव विवाद (photo: newsbytesapp)
भारत-मालदीव विवाद (photo: newsbytesapp

भारत-मालदीव विवाद: ग्लोबल टाइम्स, भारत की कम्युनिस्ट सरकार का मुखपत्र, ने मालदीव मामले में चीन को बदनाम करते हुए कहा कि उसने कभी भी मालदीव को भारत से दूर रहने को नहीं कहा। वह भी भारत-मालदीव संबंधों को एक खतरा नहीं मानता। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer