Search
Close this search box.

फलस्तीनी समर्थकों ने अमेरिका के खिलाफ जताया विरोध, व्हाइट हाउस को घेरा {05-11-2023]

इस्राइल को अमेरिकी समर्थन के खिलाफ हजारों की भीड़ ने किया प्रदर्शन:-

US: इस्राइल को अमेरिकी समर्थन के खिलाफ हजारों की भीड़ ने घेरा व्हाइट हाउस, लगे ‘फलस्तीन आजाद होगा’ के नारे इस्राइल को लेकर अमेरिका में फलस्तीनी समर्थकों ने प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने अमेरिका द्वारा इस्राइल को दी जा रही सहायता को बंद करने की मांग की।

इस्राइल को अमेरिकी समर्थन के खिलाफ हजारों की भीड़ ने किया प्रदर्शन

प्रदर्शनकारियों की मांग: इस्राइल को अमेरिकी सहायता बंद करने का आदेश:-

प्रदर्शनकारियों ने ‘फलस्तीन आजाद होगा’ के सड़कों पर नारे लगाए। इस दौरान सड़कों पर लंबा जाम देखा गया। हमास-इस्राइल का युद्ध जारी है। इस्राइली सेना लगातार हमास के ठिकानों को निशाना बना रहा है। इसी बीच व्हाइट हाउस के गेट पर कई फलस्तीनी समर्थकों ने प्रदर्शन किया। उनकी मांग है कि गाजा में तत्काल प्रभाव से युद्ध विराम हो। साथ ही प्रदर्शनकारियों द्वारा अमेरिका की इस्राइल को दी जा रही सहायता को बंद करने की मांग है।

इस्राइल को अमेरिकी समर्थन के खिलाफ हजारों की भीड़ ने किया प्रदर्शन

‘फलस्तीन आजाद होगा’ के सड़कों पर लगे नारे फलस्तीनी समर्थकों प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान व्हाइट हाउस को लाल रंग पोत दिया। इस दौरान वाशिंगटन डीसी शहर के सड़कों में लम्बा जाम लग गया। प्रदर्शनकारियों द्वारा ‘नदी से समुद्र तक फलस्तीन आजाद होगा’ जैसे नारे लगाए गए। फलस्तीनी झंडों के साथ काले और सफेद कपड़े पहने हुए प्रदर्शनकारियों में ज्यादातर युवा लोग थे|

व्हाइट हाउस के गेट पर फलस्तीनी समर्थकों ने किया प्रदर्शन:-

प्रदर्शनकारियों ने गाजा में बह रहे खून के खेल को प्रतीकात्मक रूप से व्यक्त करने के लिए व्हाइट हाउस के गेट पर लाल रंग छिड़क दिया। प्रदर्शनकारियों ने कहा, बाइडन हत्यारों के साथ फलस्तीनी समर्थकों प्रदर्शनकारियों ने कहा, हमें यहूदी राज्य नहीं चाहिए। 1948 के अरब-इस्राइल युद्ध का जिक्र करते हुए कहा, हम 48 चाहते हैं। साथ ही उन्होंने मांग कि गाजा में युद्धविराम और इस्राइल को अमेरिकी सहायता तुरंत बंद करनी चाहिए। प्रदर्शनकारियों ने लाफायेट पार्क में जनरल मार्क्विस डी लाफायेट प्रतिमा को फलस्तीनी झंडों से ढक दिया।

अमेरिका के राष्ट्रपति पर नरसंहार का आरोप: इस्राइल-हमास युद्ध के संकट में:-

अमेरिका के राष्ट्रपति पर नरसंहार का आरोप: इस्राइल-हमास युद्ध के संकट में

प्रदर्शनकारियों ने अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन पर नरसंहार का समर्थन करने का आरोप लगाया है। बात दें सात अक्तूबर को गाजा स्थित आतंकी समूह हमास ने इस्राइल पर पांच हजार रॉकेट दाग दिए। जिसके बाद से ही दोनों के बीच भीषण युद्ध शुरू हुआ। इस्राइल लगातार गाजा स्थित हमास के ठिकानों पर हमला कर रहा है। गाजा में हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय के दावा किया कि सात अक्टूबर के बाद से इस क्षेत्र में 9,400 से अधिक फलस्तीनी मारे गए हैं।

यह भी पढ़े:-

इस्राइली सेना ने दावा किया: युद्धविराम का कोई इरादा नहीं:-

 

इस्राइली सेना ने दावा किया: युद्धविराम का कोई इरादा नहीं
इस्राइली सेना ने दावा किया: युद्धविराम का कोई इरादा नहीं

Israel War:-

बेंजामिन नेतन्याहू बोले- जंग चरम पर पहुंची;

अमेरिका की अपील के बावजूद युद्धविराम के लिए तैयार नहीं अमेरिका ने पश्चिम एशिया के अन्य देशों के साथ बातचीत कर गाजा पट्टी से निर्दोष नागरिकों को निकालने की कोशिशें शुरू कर दी हैं। हालांकि इस्राइली सेना ने साफ कर दिया है कि फिलहाल युद्धविराम करने का उनका कोई इरादा नहीं है।

खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे – rashtriyabharatmanisamachar.in

यह भी पढ़े:-

साम्प्रदायिक तनाव: ईरान और इजरायल के बीच के संबंध

ईरान और इजरायल के बीच के संबंध विशेष रूप से आलोचनाओं और तनावों से भरपूर रहे हैं, और हाल में ईरान ने इस संबंध में एक और चुनौती दी है। वे हमास के साथ चल रहे युद्ध को बढ़ावा देने के इजरायल के प्रयासों को नकारते हुए कह रहे हैं कि इसके बजाय वे युद्ध को रोकने की कोशिश करें.

धार्मिक और राजनैतिक विधानसभा: संबंध की मूल कारणे

यह सबसे पहले महत्वपूर्ण है कि हम इस मुद्दे को समझें और उसके पीछे की वजहों को जानें। ईरान और इजरायल के बीच के संबंध दिन-प्रतिदिन तनावपूर्ण होते जा रहे हैं, और इसमें भूमिका निभाते हैं मध्य पूर्व के राजनैतिक और धार्मिक मुद्दे

खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे – rashtriyabharatmanisamachar.in

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent Post