Search
Close this search box.

कांग्रेस चिंता में: जयशंकर की चीन नीति पर बयान से उठा हंगामा {03-01-2024}

विदेश मंत्री का तंज: नेहरू की चीन नीति पर आलोचना

जयशंकर
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश

कांग्रेस भड़क गई जब जयशंकर ने नेहरू की चीन नीति को कोसा, कहा कि मौजूदा प्रधानमंत्री से लाभ लेने के लिए..। विदेश मंत्री जयशंकर ने हाल ही में भारत और चीन के संबंधों पर चर्चा की। इस दौरान, वह पंडित नेहरू की चीन नीति से नाराज था। जयराम रमेश ने इस पर विदेश मंत्री पर कड़ा हमला बोला।
कांग्रेस ने विदेश मंत्री एस जयशंकर द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की चीन नीति की आलोचना की है। उसने जयशंकर पर बहुत से गंभीर आरोप लगाए। साथ ही नेहरू ने कहा कि वह वर्तमान प्रधानमंत्री से फायदा उठाने के लिए कोस रहे हैं।

गौरतलब है कि हाल ही में विदेश मंत्री जयशंकर ने एक न्यूज एजेंसी को इंटरव्यू दिया, जिसमें उन्होंने चीन और भारत के संबंधों पर चर्चा हुई। उस समय, जयशंकर ने पंडित नेहरू की चीन नीति पर आक्षेप लगाया था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने इस पर विदेश मंत्री पर भारी आलोचना की।मंगलवार को विदेश मंत्री पर कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने हमला बोला। “मैं हर बार जब भी विदेश मंत्री नेहरू पर दिए गए बयानों को पढ़ता हूं, तो मुझे सिर्फ इतना याद आता है कि वह अपनी अच्छी पोस्टिंग के लिए नेहरूवादियों के आसपास कितनी परिक्रमा करता था”, उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर कहा।”

रमेश ने कहा, “मैं समझ सकता हूं कि उन्हें प्रधानमंत्री के साथ खुद को और अधिक जोड़ने के लिए नेहरू को कोसना पड़ता है।” लेकिन यह करने के लिए उनकी बुद्धि और निष्पक्षता खो चुकी हैं। मैं जानता था कि वह उनके सामने झुक जाएगा। लेकिन उनके इशारों पर अब वह चल रहे हैं। ईमानदार लोग उल्लंघन कर रहे हैं, यह बहुत दुख की बात है।”

जयशंकर की समर्थन: प्रधानमंत्री मोदी की चीन नीति पर विदेश मंत्री की प्रशंसा

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की चीन नीति की आलोचना की. उनका पूरा बयान यहाँ है। इंटरव्यू में विदेश मंत्री ने कहा कि आज चीन की नीति को समझना बहुत मुश्किल है। इसका एक और उदाहरण पंचशील समझौता है। उन्होंने कहा कि चीन से संबंधों को वास्तविकता पर आधारित होना चाहिए और पंडित नेहरू के चीन से संबंधों पर भी सवाल उठाया।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एएनआई (न्यूज एजेंसी) को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा कि क्या भारत ने हर समय चीन को विचारों में हराया है? “मुझे ऐसा नहीं लगता कि हम हमेशा हारे हैं लेकिन पूर्व में ऐसी कई घटनाएं हुईं, जिन्हें आज समझना बहुत मुश्किल है,” विदेश मंत्री ने कहा। इसका एक और उदाहरण पंचशील समझौता है। हमारे पास सदियों पुरानी सभ्यताएं हैं, और जब हम एक दूसरे से संबंध बनाते हैं तो इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए।”

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि “पीएम मोदी की चीन नीति व्यवहारिक”, देश के पूर्व प्रधानमंत्री पंडित नेहरू की चीन नीति की आलोचना करते हुए कहा कि ‘उदाहरण के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सीट को ही लें तो मैं नहीं कह रहा कि हमें उस समय सीट लेनी चाहिए थी; यह एक अलग बहस का विषय है. हालांकि, यह कहना कि चीन को पहले सीट मिलनी चाहिए और चीन की सुरक्षा पहले होनी चाहिए, यह एक अजीब बयान था।”

जयशंकर ने कहा, ‘हमारी पूर्व की चीन नीति आदर्शवाद पर आधारित रही और यथार्थवाद से परे रही। चीन के साथ हमारा संबंध यथार्थवादी होना चाहिए। मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी यथार्थवाद पर आधारित चीन-भारत संबंधों का पक्षधर हैं।”

विदेश मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चीन नीति की प्रशंसा की और कहा कि वह चीन को व्यवहारिक रूप से देखते हैं।

यह भी पढ़े:-

नेशनल हाईवे पर  बदमाशों ने पहले लिफ्ट मांगी, फिर व्यापारी से नकदी और कार को लूटा

नेशनल हाईवे पर गोली मारकर वारदात
नेशनल हाईवे पर गोली मारकर वारदात अंजाम दिया : photo :rashtriyabharatmanisamachar

नेशनल हाईवे पर गोली मारकर वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों ने पहले लिफ्ट करनाल में एक व्यापारी से नकदी और कार लूटने की शिकायत की थी। पुरा पढ़े

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer