Search
Close this search box.

एसजीपीसी का आगाज, हरियाणा में आठ निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव की तैयारी जारी{19-12-2023}

Haryana राज्य: एसजीपीसी हरियाणा के आठ निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव करवाने को तैयार है, केंद्र की प्रतिक्रिया का इंतजार

एसजीपीसी हरियाणा के आठ निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव

एसजीपीसी ने कहा कि हम पंजाब में और पंजाब से बाहर गुरुद्वारों की देखभाल करने के लिए समर्पित हैं। SGPc याचिका का समर्थन करता है क्योंकि यह सिख गुरुद्वारा अधिनियम के तहत हरियाणा में चुनाव करवाने की मांग बिल्कुल सही है। हम हरियाणा में चुनाव करने के लिए तैयार हैं अगर आवश्यकता होगी।

एसजीपीसी ने शिरोमणि गुरु द्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) चुनाव के लिए हरियाणा में मौजूद निर्वाचन क्षेत्रों को भी शामिल करने की मांग को लेकर दाखिल की गई याचिका का समर्थन किया है. इसके अलावा, एसजीपीसी ने यहां भी चुनाव करने की मांग की है। याचिका पर जवाब देते हुए एसजीपीसी ने कहा कि हम पूरे शिक्षण समुदाय का प्रतिनिधित्व करते हैं साथ ही हरियाणा में चुनाव करवाने को तैयार हैं। अब केंद्रीय सरकार से उत्तर मिलना बाकी है।

याचिकाकर्ताओं बलदेव सिंह (युमनानगर) और गुरदीप सिंह (अंबाला) ने बताया कि केंद्र सरकार की 1996 की अधिसूचना में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक बोर्ड की 120 सीटें निर्धारित की गई थी, जिसमें से हरियाणा के लिए आठ सीटें दी गई थीं। 2011 के चुनाव में दोनों याचिकाकर्ता हरियाणा से एसजीपीसी के सदस्य चुने गए। अब हरियाणा की आठ सीटें चुनाव से बाहर कर दी गई हैं, जबकि इन पर भी चुनाव होना चाहिए था।

एसजीपीसी का चुनाव सिख गुरुद्वारा अधिनियम 1925 द्वारा नियंत्रित होता है। याचिकाकर्ताओं ने विवादित चुनाव प्रक्रिया को 25 मई 2023 को रद्द करने के लिए निर्देश देने की मांग की है। 20 अप्रैल, 1996 की सिख गुरुद्वारा अधिनियम 1925 की धारा 44 के तहत जारी की गई अधिसूचना, जो हरियाणा के निर्वाचन क्षेत्रों को बाहर करती है, पूरी तरह से उल्लंघन की गई है। इस तरह हरियाणा को बाहर करना स्थानीय मूल्यों के साथ अन्याय है।

एसजीपीसी ने याचिका पर जवाब देते हुए कहा कि हम पंजाब और पंजाब के बाहर गुरुद्वारों के प्रबंधन के लिए समर्पित हैं। SGPc याचिका का समर्थन करता है क्योंकि यह सिख गुरुद्वारा अधिनियम के तहत हरियाणा के निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव करवाने की मांग पूरी तरह से सही है। हरियाणा में चुनाव कराने के लिए हम तैयार हैं अगर आवश्यकता होगी। अब केंद्रीय सरकार की प्रतिक्रिया चाहिए।

यह भी पढ़े:-

पटवारी, उमंग और कटारे: कांग्रेस का OBC कार्ड को बदलने का कदम:-

पटवारी, उमंग और कटारे: कांग्रेस का OBC कार्ड को बदलने का कदम

मध्य प्रदेश: BJP के OBC कार्ड को खारिज करने के लिए कांग्रेस ने यह कदम उठाया, इसलिए कांग्रेस ने चुना पटवारी-उमंग और कटारे को नए पदों पर नियुक्त कर जातीय संतुलन बनाने का प्रयास किया है।

खबर को पुरा पढ़ने के लिए click करे:-rashtriyabharatmanisamachar

Spread the love
What does "money" mean to you?
  • Add your answer